Sunday , May 22 2022
Home / MainSlide / सीआरपीएफ की पहली बस्तरिया बटालियन के दीक्षान्त समारोह में राजनाथ ने ली सलामी

सीआरपीएफ की पहली बस्तरिया बटालियन के दीक्षान्त समारोह में राजनाथ ने ली सलामी

रायपुर/अम्बिकापुर 21 मई। केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज नक्सलियों से निपटने के लिए खास रूप से बनाई गई बस्तरिया बटालियन के पहले दीक्षान्त समारोह में परेड की सलामी ली और विश्वास जताया कि नक्सलवाद के खात्में इस बटालियन का शानदार योगदान होगा।

श्री सिंह ने सरगुजा जिले के केपी ग्राम स्थित केन्द्रीय सुरक्षा बल के 241 वीं बटालियन के अतिरिक्त प्रशिक्षण सेंटर में बस्तरिया बटालियन के दीक्षांत परेड समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि बस्तरिया बटालियन के परेड को देखकर वे बहुत गौरवान्वित हुए हैं। श्री सिंह ने कहा कि आदिवासी समाज बहुत देशभक्त है और हर चुनौती के समय हमेशा उनका योगदान रहा है, इसलिए नियमों को शिथिल कर बस्तर क्षेत्र के नवजवानों को बस्तरिया बटालियन में भर्ती होने का अवसर प्रदान किया गया।

उन्होंने कहा कि माओवादी एवं उग्रवाद आज देश के लिए संकट है, लेकिन केन्द्रीय सुरक्षा बल और पुलिस के समन्वय से बेहतर कार्य करने के कारण माओवाद, आतंकवाद एवं उग्रवाद आदि से होने वाले शहादत में 53 से 55 प्रतिशत की कमी आई है तथा इनके भौगौलिक क्षेत्र में  भी 40 से 45 प्रतिशत की कमी आई है। उन्होंने कहा कि माओवादी ताकतें नहीं चाहती हैं कि बस्तर जैसे दूर-दराज के क्षेत्रों का विकास हो  और वे चाहते हैं कि आदिवासी गरीब ही बने रहें। श्री सिंह ने कहा कि नक्सलियों के नेता और उनके परिवार के पास सभी सुविधाएं हैं तथा उनके बच्चे बड़े-बड़े स्कूलों  और विदेशो में पढ़ाई कर रहे हैं और वे आदिवासियों को विकास से दूर रखना चाहते हैं

केन्द्रीय गृहमंत्री ने कहा है कि निरीह और बेबस आदिवासियों का खून बहाने वाले माओवादियो को अवश्य दण्डित किया जाएगा तथा उन्हें कदापि नहीं बख्शा जाएगा। उन्होंने केन्द्रीय सुरक्षा बल का प्रशिक्षण पूर्ण करने वाले जवानों से कहा है कि वे  अब सी.आर.पी.एफ. के महत्वपूर्ण अंग बन गए हैं और वे अपना काम बेहतर ढंग से कर शोहरत हासिल करें। उन्होंने कहा कि कश्मीर में भी सी.आर.पी.एफ. और सेना मिलकर अलगाव वादियों का डट कर मुकाबला कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ में बस्तरिया बटालियन का गठन कर यहां के लोगों को इसमें भर्ती होने का अवसर देने के लिए केन्द्रीय गृहमंत्री श्री सिंह का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि बस्तरिया बटालियन के चुस्त-दुरूस्त परेड को देखकर यह लगता है कि ये नवजवान अब बस्तर में अवश्य शांति स्थापित करने में कामयाब होंगे। उन्होंने कहा कि ये सभी जवान कभी एस.पी.ओ. आदि के रूप में सरकार को सहयोग दे चुके हैं, जो आज एक नए रूप में सी.आर.पी.एफ. के जवान बन गए हैं, जिसे इतिहास में जाना जाएगा।

उन्होंने कहा कि बस्तर के नवजवान न केवल छत्तीसगढ़ का बल्कि पूरे हिन्दुस्तान का सम्मान बढ़ाएंगे। उन्होंने कहा कि बस्तर से निकलने वाले फौलाद जैसा इन जवानों का आत्मविश्वास है और इनका ह्रदय बहुत कोमल है। ये जवान कभी पराजित नहीं होंगे और अपने लक्ष्य में सफल होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ के बस्तर में शांति स्थापित करने में सी.आर.पी.एफ. के जवानों की महत्वपूर्ण भूमिका है। ये जवान न केवल अपना पसीना बहाए है, बल्कि जरूरत पड़ने पर अपने खून भी बहाए हैं। इनके बलिदान को छत्तीसगढ़ कभी नहीं भुलेगा। उन्होंने कहा कि इन जवानों के सहयोग से बस्तर के दूर-दराज के क्षेत्रों में सड़क, पुल-पुलियों का जाल बिछाने के साथ ही शिक्षा और खेल-कूद सहित सामाजिक गतिविधियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जा रही है तथा बस्तर में शांति और समरसता लाने का कार्य किया जा रहा है।

केन्द्रीय सुरक्षा बल के महानिदेशक आर.आर. भट्नागर ने कहा कि केन्द्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह का केन्द्रीय सुरक्षा बल के प्रति विशेष लगाव है और उन्हीं के विशेष प्रयास से बस्तरिया बटालियन का गठन किया गया है, जिससे बस्तर के नवजवानों को इस सी.आर.पी.एफ. में भर्ती होने का सुअवसर प्राप्त हुआ। बस्तर बटालियन में भर्ती करने के बाद इन नवजवानों का 44 सप्ताह का प्रशिक्षण पूरा हो गया है और ये नवजवान अब माओवादी प्रभावी बस्तर क्षेत्र में नक्सलियों के खिलाफ लोहा लेने के लिए पूर्ण रूप से तैयार हैं।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में सी.आर.पी.एफ. और पुलिस बल के समन्वय तथा राज्य शासन के सहयोग से नक्सल ऑपरेशन में कामयाबी हासिल की जा रही है। इस अवसर पर उप कमाडेंट श्री प्रभात कुमार सिंह ने प्रशिक्षण पूर्ण करने वाले नवजवानों को शपथ दिलाई। इस अवसर पर पर परेड कमाण्ड श्री राजेन्द्र प्रसाद रेगर के नेतृत्व में आकर्षक मार्चपास्ट किया गया। साथ ही इस मौके पर बस्तर की लोक संस्कृति पर आधारित मनोहरी सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी प्रदर्शन किया गया।