Thursday , May 26 2022
Home / MainSlide / समाधान शिविर में रमन ने डेढ़ करोड़ से ज्यादा के विकास कार्यों की दी मंजूरी

समाधान शिविर में रमन ने डेढ़ करोड़ से ज्यादा के विकास कार्यों की दी मंजूरी

बीजापुर 11 मार्च।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश व्यापी लोक सुराज अभियान में बस्तर संभाग के ही सुदूरवर्ती बीजापुर जिले के भोपालपट्नम तहसील के मद्देड़ मे आयोजित समाधान शिविर में हिस्सा लिया। उन्होंने वहां डेढ़ करोड़ रूपए से ज्यादा के निर्माण और विकास कार्यों को तत्काल मंजूरी देने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर  जनता को सम्बोधित करते हुए मद्देड़ में बस स्टैण्ड निर्माण के लिए 50 लाख रूपए, कोंगोंपल्ली-संगमपल्ली मार्ग में सोलर लाईट लगाने के लिए 30 लाख और मद्देड़ में सामुदायिक भवन निर्माण के लिए 20 लाख रूपए मंजूर करने की घोषणा की। डॉ. सिंह ने मद्देड़ में तालाब खुदाई के लिए जे.सी.बी. मशीन खरीदने के लिए भी 50 लाख रूपए तत्काल मंजूर कर दिए। उन्होंने समाधान शिविर में तमलापल्ली के लिए नल-जल योजना और पामगल, मिनकापल्ली, वंगापल्ली, उस्कालेड और पेगड़ापल्ली के लिए कुल 25 लाख रूपए की लागत से 5 सोलर हैण्डपम्प स्थापना की मांग को भी तुरंत मंजूर करने का ऐलान किया।

डॉ. सिंह ने कहा कि जिला मुख्यालय बीजापुर में अगले माह अप्रैल में 13, 14 और 15 तारीख को तीन दिवसीय विशाल स्वास्थ्य शिविर का भी आयोजन किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने समाधान शिविर में मद्देड़ सहित आसपास की 11 ग्राम पंचायतों से आए ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुए उनकी समस्याएं भी सुनी और अधिकारियों को मंच पर बुलाकर इनमें से कई समस्याओं का मौके पर ही समाधान भी करवाया। डॉ. सिंह ने जनता से कहा कि बीजापुर जिले में मद्देड़ एक महत्वपूर्ण स्थान है, जो इस जिले के भोपालपट्नम क्षेत्र में अंतर्राज्यीय सीमा से लगा हुआ है। इस वजह से यह आर्थिक विकास और व्यवसायिक दृष्टि से भी काफी महत्वपूर्ण है। निकट भविष्य में इस क्षेत्र का और भी अधिक विकास होगा।

उन्होंने कहा कि विगत 14 वर्ष में बीजापुर जिले में विकास के कई क्षेत्रों में शानदार प्रगति हुई है। जनता की ताकत से ही सरकार को जनता के लिए विकास के कार्य करवाने की ताकत मिलती है। पूरे जिले में सड़कों और पुल-पुलियों का जाल बिछाया जा रहा है। उन्होंने लोगों को बताया कि राज्य सरकार ने तेन्दूपत्ता श्रमिकों की मजदूरी 1800 रूपए से बढ़ाकर प्रति मानक बोरा ढाई हजार रूपए कर दी है।इमली का न्यूनतम समर्थन मूल्य 18 रूपए प्रति किलो से बढ़ाकर 25 रूपए प्रति किलो कर दिया गया है।

समाधान शिविर में वन और विधि मंत्री महेश गागड़ा ने मंच पर पुष्पगुच्छ भेंटकर मुख्यमंत्री का स्वागत किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अमन कुमार सिंह, सचिव श्री सुबोध कुमार सिंह, बस्तर संभाग के कमिश्नर श्री दिलीप वासनीकर और कलेक्टर बीजापुर श्री आयाज तम्बोली सहित क्षेत्र के अनेक जनप्रतिनिधि भी उपस्थित थे। जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती जमुना सकनी सहित जिला पंचायत और जनपद पंचायतों के अनेक सदस्य तथा बड़ी संख्या में पंच-सरपंच भी मौजूद थे।