Thursday , January 20 2022
Home / छत्तीसगढ़ / विधानसभा में 1778 करोड़ रूपए का प्रथम अनुपूरक पारित

विधानसभा में 1778 करोड़ रूपए का प्रथम अनुपूरक पारित

रायपुर, 03 अगस्त।छत्तीसगढ़ सरकार के वर्तमान वित्तीय वर्ष 2017-18 का प्रथम अनुपूरक बजट आज यहां विधानसभा में ध्वनिमत से पारित कर दिया गया। इसमें एक हजार 778 करोड़ रूपए का प्रावधान हैं। इसे मिलाकर राज्य सरकार के इस वित्तीय वर्ष के बजट का आकार बढ़कर 82 हजार 737 करोड़ रूपए हो गया है। 

डॉ.सिंह ने विधानसभा परिसर में बताया कि एक हजार 778 करोड़ रूपए के प्रथम अनुपूरक अनुमानों में 42 प्रतिशत अर्थात् 746 करोड़ रूपए पूंजीगत व्यय के लिए और एक हजार 032 करोड़ रूपए राजस्व व्यय के लिए निर्धारित है। चालू वर्ष 2017-18 के मुख्य बजट में राजस्व आधिक्य चार हजार 781 करोड़ रूपए था। प्रथम अनुपूरक की राशि को शामिल करने पर यह तीन हजार 887 करोड़ रूपए हो गया है। मुख्य बजट में राजकोषीय घाटा नौ हजार 647 करोड़ रूपए निर्धारित है, जो आज पारित प्रथम अनुपूरक के बाद बढ़कर 11 हजार 221 करोड़ रूपए हो गया है। 

  प्रथम अनुपूरक में राज्य सरकार ने प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में सार्वजनिक सुविधाओं के विकास के लिए कई प्रावधान किए हैं। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा लोक सुराज अभियान 2017 के दौरान मनरेगा श्रमिकों के लिए टिफिन बाक्स वितरण की योजना शुरू करने की घोषणा की थी। उनकी इस घोषणा पर अमल के लिए प्रथम अनुपूरक में 20 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा मुख्यमंत्री ग्राम गौरव पथ योजना के लिए 50 करोड़ रूपए की अतिरिक्त राशि भी निर्धारित की गई है।

गौण खनिजों से मिलने वाले राजस्व की राशि पंचायतों को देने के लिए 102 करोड़ 41 लाख रूपए का प्रावधान रखा गया है। राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के लिए 33 करोड़ 50 लाख रूपए की धनराशि निर्धारित की गई है। कोटा नगर आवर्धन जल प्रदाय योजना और सूरजपुर जिले के कुदरगढ़ में मां बागेश्वरी देवी मंदिर नल-जल प्रदाय योजना को अनुपूरक में शामिल करते हुए प्रतीक प्रावधान किया गया है। 
   प्रदेश के 11 शहरों में 50 बिस्तरों वाले अस्पताल (एम.सी.एच.अस्पताल )के लिए 30 करोड़ रूपए की व्यवस्था प्रथम अनुपूरक में की गई है। इस राशि से पिथौरा, बिल्हा, सक्ती, लोरमी, बलौदाबाजार, उदयपुर, गीदम, जशपुर, सुकमा, भैयाथान और लैलूंगा के वर्तमान सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों का उन्नयन 50 बिस्तरों वाले एम.सी.एच. अस्पताल के रूप में किया जाएगा। इसके अलावा छह शहरों के सरकारी अस्पतालों का उन्नयन 100 बिस्तरों वाले एम.सी.एच. अस्पतालों में करने के लिए प्रथम अनुपूरक में 25 करोड़ रूपए की धनराशि रखी गई है।