Wednesday , January 26 2022
Home / MainSlide / रेल कोच कारखानों के निजीकरण के प्रयास का सोनिया ने लगाया आरोप

रेल कोच कारखानों के निजीकरण के प्रयास का सोनिया ने लगाया आरोप

नई दिल्ली 02 जुलाई।यूपीए अध्यक्ष एवं सांसद सोनिया गांधी ने मोदी सरकार पर रेल कोच कारखानों के निजीकरण के प्रयास का आरोप लगाया है।

श्रीमती गांधी ने आज लोकसभा में शून्यकाल में यह मामला उठाते हुए कहा कि रेलवे की छह उत्पादन इकाइयों का कंपनीकरण किया जाने वाला है, इस योजना के प्रथम चरण में रायबरेली की रेल कोच फैक्ट्री होगी, कंपनीकरण के जो असली मायने नहीं जानते हैं मैं उनको बता दूं कि कंपनीकरण दरअसल निजिकरण की शुरुआत है, यह देश की मूल्यवान संपत्ति कौड़ियों के दाम चंद निजी हाथों में देने की प्रक्रिया है, हजारों लोग इससे बेरोजगार हो जाते हैं।

उन्होने कहा कि सरकार ने कंपनीकरण के लिए कारखाने की मजदूर यूनियन और श्रमिकों तक को विश्वास में नहीं लिया।उन्होंने कहा कि सरकारी उद्योगों का बुनियादी काम लोक कल्याण है न कि निजी उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाना।उऩ्होने देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू का जिक्र करते हुए कहा ‘’पंडित नेहरू ने सार्वजनिक क्षेत्र के उद्योगों को आधुनिका भारत का मंदिर कहा था। आज यह देखकर दुख और अफसोस होता है कि इस तरह से ज्यादातर मंदिर खतरे में है। मुनाफे के बावजूद उनके कर्मचारियों को वेतन नहीं दिया जा रहा। एचएएल,बीएसएनएल एवं एमटीएनएल  के साथ क्या हो रहा है किसी से छिपा नहीं है।