Thursday , September 29 2022
Home / MainSlide / राज्यपाल ने गणतंत्र दिवस पर राज्य स्तरीय मुख्य समारोह में किया ध्वजारोहण

राज्यपाल ने गणतंत्र दिवस पर राज्य स्तरीय मुख्य समारोह में किया ध्वजारोहण

रायपुर 26 जनवरी।राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने आज यहां पुलिस परेड ग्राउंड में 71वें गणतंत्र दिवस के अवसर आयोजित मुख्य समारोह में ध्वजारोहण किया। उन्होंने परेड का निरीक्षण किया और सलामी ली। राज्यपाल ने प्रदेशवासियों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी।

राज्यपाल ने इस मौके पर अपने उद्बोधन में कहा कि आज का दिन हम सभी भारतवासियों के लिए अपार गौरव का है। जिन मनीषियों एवं महान नेताओं के कारण भारत को विश्व का सर्वश्रेष्ठ संविधान मिला, आज उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का दिन है।राज्यपाल ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर नेहरू, प्रथम विधि मंत्री बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर को विशेष तौर पर याद करते हुए भारत को आजादी दिलाने के लिए त्याग और बलिदान करने वाले सभी भारतवासियों, शहीदों और पुरखों को भी नमन किया।

उन्होने कहा कि आज इस महान राष्ट्रीय त्यौहार के अवसर पर हमें संविधान निर्माता डॉ. अम्बेडकर की अपेक्षाओं और कसौटियों पर भी गौर करना होगा।उन्होंने कहा कि संविधान चाहे कितना भी अच्छा क्यों न हो लेकिन जिन्हें संविधान को अमल में लाने का काम सौंपा जाए, वे यदि कसौटी पर खरे न उतरें तो संविधान भी गलत सिद्ध हो जायेगा।

उन्होंने आह्वान करते हुए कहा कि हम अपने संविधान के अनुरूप समस्त नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समानता दिलाने के लिए एक बार फिर अपना संकल्प दोहराएं, व्यक्ति की गरिमा, राष्ट्र की एकता व अखण्डता सुनिश्चित करने के लिए पूरे मनोयोग से कार्य करें। उन्होंने कहा कि आज यह कहते हुए बेहद खुशी हो रही है कि मेरी सरकार ने विगत वर्षों में ऐसी नई पहल की है, जिसके कारण प्रत्येक नागरिक को समान अवसर और न्याय मिलने का विश्वास हुआ है।

राज्यपाल ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ने प्रदेश के सबसे पिछड़े अंचलों, सबसे कमजोर तबकों और सबसे जरूरतमंद लोगों को सबसे पहले राहत देने की शुरूआत की है। लोहंडीगुड़ा में जमीन वापसी, 4 हजार रूपये प्रति मानक बोरा तेन्दूपत्ता संग्रहण पारिश्रमिक, निरस्त वन अधिकार दावों की समीक्षा, सामुदायिक वन अधिकार पट्टों की स्वीकृति में तेजी, निर्दोष आदिवासियों को आपराधिक प्रकरणों से मुक्ति, 22 लघु-वनोपजों की समर्थन मूल्य पर खरीदी, मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान, मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना जैसे अनेक फैसलों का अच्छा असर हुआ है।