Wednesday , December 1 2021
Home / MainSlide / रमन ने बोनस वितरण के साथ ही विकास कार्यो का किया भूमिपूजन

रमन ने बोनस वितरण के साथ ही विकास कार्यो का किया भूमिपूजन

गुण्डरदेही(बालोद)/दुर्ग 10अक्टूबर।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने आज बोनस तिहार के अवसर पर गुण्डरदेही और दुर्ग में आयोजित कार्यक्रम में जहां एक लाख 58 हजार से ज्यादा किसानों को लगभग 240 करोड़ रूपए का धान बोनस ऑन लाइन वितरित किया, वहीं उन्होंने दोनों जिलों की जनता को 329 करोड़ रूपए से ज्यादा के तीन हजार 301 निर्माण कार्यों की सौगात दी।

डा.सिंह ने इनमें से गुण्डरदेही में 45 करोड़ 68 लाख रूपए के तीन हजार 187 पूर्ण हो चुके निर्माण कार्यों का लोकार्पण और 84 करोड़ 51 लाख रूपए के 43 नए स्वीकृत कार्यों का  भूमिपूजन और शिलान्यास किया।गुण्डरदेही में लोकार्पित निर्माण कार्यो में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बालोद जिले के तीन हजार 150 गरीब परिवारों के लिए निर्मित पक्के मकान भी शामिल हैं।

डॉ.सिंह दोनों जिलों के एक लाख 58 हजार से ज्यादा किसानों को लगभग 239 करोड़ 94 लाख रुपए से ज्यादा का धान बोनस ऑनलाइन वितरित किया। इनमें से बालोद जिले के 92 हजार 615 किसानों को करीब 134 करोड़ रूपए का बोनस मिला। दुर्ग के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री जिले के 66 हजार किसानों को 106 करोड़ रूपए का बोनस दिया।

मुख्यमंत्री दुर्ग स्थित नई कृषि उपज मंडी प्रांगण में आयोजित बोनस तिहार में शामिल हुए, जहां उन्होंने 24 करोड़ 49 लाख रुपए की लागत से प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत करहीडीह में 516 गरीब परिवारों के लिए बनने वाले मकानों का शिलान्यास किया। डॉ. सिंह ने गुण्डरदेही में आयोजित कार्यक्रम में 130 करोड़ 19 लाख रुपए की लागत के तीन हजार 230 कार्यों का लोकार्पण, शिलान्यास और भूमिपूजन किया। दुर्ग में आयोजित बोनस तिहार में उन्होंने 199 करोड़ रुपए की लागत के 71 निर्माण कार्यों की सौगात दी।

मुख्यमंत्री दुर्ग के बोनस तिहार में राज्य और केन्द्र सरकार की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत 4 हजार 600 हितग्राहियों को 15 करोड़ 31 लाख रुपए मूल्य की सामग्री और अनुदान सहायता राशि के चेक भी वितरित किए। गुण्डरदेही के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के साथ महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू, लोकसभा सांसद श्री विक्रम उसेंडी, विधायक श्री राजेन्द्र कुमार राय और बालोद जिले के अनेक वरिष्ठ जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।