Saturday , November 27 2021
Home / MainSlide / रमन ने धर्मशाला बनाने के लिए की दो करोड़ रूपए देने की घोषणा

रमन ने धर्मशाला बनाने के लिए की दो करोड़ रूपए देने की घोषणा

भूपालापल्ली/रायपुर 01 फरवरी।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने राज्य के श्रद्धालुओं के लिए तेलांगाना के जयशंकर भूपालापल्ली जिले के मेदाराम में धर्मशाला बनाने दो करोड़ रूपए देने की घोषणा की है।

डा.सिंह आज मेदाराम में आयोजित सम्माक्का सरलाम्मा जतारा आदिवासी पर्व में शामिल हुए और वहां सम्माक्का सरलाम्मा देवी की पूजा-अर्चना की।डॉ.सिंह ने इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि कुंभ के बाद श्रद्धालुओं की सबसे ज्यादा भीड़ इस मेले में जुटती है। इस मेले में छत्तीसगढ़ के भी श्रद्धालु बड़ी संख्या में पहुंचते हैं।

उन्होने छत्तीसगढ़ के श्रद्धालुओं को वहां ठहरने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से दो करोड़ रूपए की लागत से एक धर्मशाला के निर्माण की घोषणा की।इसके लिए उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित तेलांगाना के उप मुख्यमंत्री श्री कडियम श्रीहरि से भूमि आवंटित करने का आग्रह किया, जिस पर उन्होंने सहमति व्यक्त की।

डॉ.सिंह को इस मेले में उनके वजन के बराबर 96 किलो गुड़ से तौला गया और इसके बाद उस गुड़ को प्रसाद के रूप में उपस्थितों को वितरित किया गया। मेले में तेलांगाना के आवास एवं विधि मंत्री श्री ए. इंदिराकरण रेड्डी, छत्तीसगढ़ के आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री केदार कश्यप और वन मंत्री श्री महेश गागड़ा भी शामिल हुए।

उल्लेखनीय है कि सम्माक्का सरलाम्मा जतारा आदिवासियों का सबसे बड़ा मेला है, जिसमें तेलांगाना के अलावा छत्तीसगढ़, ओडिशा, झारखण्ड, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और आंध्रप्रदेश के एक करोड़ से ज्यादा लोग शामिल होते हैं।इस त्यौहार में आदिवासी समाज अपनी पीड़ा और शौर्य को अभिव्यक्त करते हैं।यहां कोया आदिवासी समुदाय से जुड़े सम्माक्का सरलाम्मा मंदिर भी है, जिसका निर्माण 12वीं शताब्दी में किया गया है। इस मंदिर में दो महिलाओं सम्माक्का और सरलाम्मा को देवी के रूप में पूजा जाता है। मंदिर में प्रसाद के रूप में गुड़ चढ़ाया जाता है। सभी श्रद्धालु अपने साथ गुड़ लेकर इस मेले में पहुंचते हैं।