Friday , December 3 2021
Home / MainSlide / मोदी ने किया भारत में निवेश करने का वैश्विक उद्यमियों का आहवान

मोदी ने किया भारत में निवेश करने का वैश्विक उद्यमियों का आहवान

हैदराबाद 28 नवम्बर।प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने भारत में निवेश करने और उसकी विकास गाथा में भाग लेने के लिए वैश्विक उद्यमियों का आहवान किया है।उन्‍होंने कहा कि निरर्थक कानूनों को समाप्‍त कर और कारोबार को सुगम बनाने के कदम उठाकर भारत ने अनुकूल वातावरण उपलब्‍ध कराया है।

श्री मोदी आज यहां अमरीकी राष्‍ट्रपति की बेटी और सलाहकार इवान्‍का ट्रंप के साथ संयुक्‍त रूप से आठवें वैश्विक उद्यमिता सम्‍मेलन का उद्घाटन करने के बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे। प्रधानमंत्री ने उद्यमियों से भारत में निवेश करने और देश के बदलाव में भाग लेकर नव भारत निर्माण में योगदान देने को कहा।

श्री मोदी ने उद्यमियों के अनुकूल वातावरण पैदा करने के लिए अनेक कदम उठाये जाने का दावा करते हुए कहा कि राजकोषीय घाटा नियंत्रण में है और कालेधन के खिलाफ कड़े कदम उठाये गये हैं। श्री मोदी ने कहा कि ढांचागत परियोजनाओं पर अच्‍छे ढंग से काम हो रहा है और कृषि तथा खाद्य प्रसंस्‍करण उद्योग तेजी से तरक्‍की कर रहा है।प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत विश्‍व बैंक की रैंकिंग में 140 से सौवें स्‍थान पर आने से संतुष्‍ट नहीं होगा, प्रधानमंत्री ने कहा कि देश 50वें पायदान पर पहुंचने का प्रयास करेगा।

इससे पहले सुश्री इवान्‍का ट्रंप ने कहा कि यह सम्‍मेलन विश्‍वभर में उद्यमिता को प्रोत्‍साहन देने की अमरीकी प्रतिबद्धता का एक सशक्‍त उदाहरण है। उन्‍होंने कहा कि महिलाओं की उन्‍नति के बिना मानवता आगे नहीं बढ़ सकती।सुश्री इवान्‍का ने प्रधानमंत्री मोदी की साफ तौर पर सराहना की और कहा कि वे भारत का निर्माण एक उन्‍नत अर्थव्‍यवस्‍था, लोकतंत्र के प्रकाश स्‍तंभ और विश्‍व में आशा के प्रतीक के रूप में कर रहे हैं।

सुश्री इवान्‍का सम्‍मेलन के दौरान मुख्‍य रूप से महिला उद्यमिता पर दो पूर्ण सत्रों में भाग लेंगी। वे अमरीका के उद्यमियों के एक उच्‍चस्‍तरीय शिष्‍टमंडल का नेतृत्‍व कर रही हैं जिसमें अमरीका के 38 राज्‍यों के प्रतिनिधि शामिल हैं।पहले महिलाएं-सबकी समृद्धि विषय पर केंद्रित इस सम्‍मेलन में 150 से अधिक देशों के लगभग पन्‍द्रह सौ प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं। दस देशों के शिष्‍टमंडल में सभी प्रतिनिधि महिलाएं हैं।

सम्‍मेलन की मेजबानी करने का अवसर भारत को जून में प्रधानमंत्री की अमरीका यात्रा के दौरान मिला था।