Thursday , December 2 2021
Home / MainSlide / भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष से कोई समझौता नहीं – मोदी

भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष से कोई समझौता नहीं – मोदी

नई दिल्ली 25 सितम्बर।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जोर देकर कहा है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष से कोई समझौता नहीं किया जाएगा।उनका कोई संबंधी नहीं है और जो भी दोषी होगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा।

श्री मोदी ने आज शाम भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के समापन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि लोकतंत्र को केवल चुनाव के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए तथा केवल चुनाव जीतना उनकी पार्टी का लक्ष्य नहीं है। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं से पार्टी को चुनाव से आगे ले जाने को कहा।

श्री मोदी के सम्बोधन के ब्योरा देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि श्री मोदी ने पार्टी कार्यकर्ताओं से सरकार की कल्याण योजनाओं को सफल बनाने के लिए उसमें भाग लेने का आह्वान किया।आज के उनके भाषण का जो मूल केन्द्र था वो यही था कि राजनीतिक संगठन के नाते चुनाव एक उसका अंग है लेकिन वी शुड टेक द बीजेपी बियोन्ड इलेक्शंस एंड मेक इट एन इंस्ट्रयूमेंटल मास पार्टीसिपेशन सो डैट वी कैन इंप्रूव द क्वालिटी ऑफ लाइफ ऑफ पीपल जबतक वो राजनैतिक कार्यकर्ता उस जन भागीदारी में हिस्सा नहीं लेते, तब तक वो कार्यक्रम पूरी सफलता की ओर नहीं जाते..।

विपक्ष की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि विपक्ष की कठोर भाषा सरकार के खिलाफ आरोपों को साबित नहीं कर सकती।श्री मोदी ने आरोप लगाया कि विपक्ष जब सत्ता में था, तो उसने सत्ता का उपयोग केवल व्यक्तिगत लाभ के लिए किया, न कि जनता की भलाई के लिए। श्री जेटली ने कहा कि पार्टी प्रमुख अमित शाह ने घोषणा की कि भाजपा, सरदार पटेल की जयंती 31 अक्टूबर को देश भर में एकता दौड़ आयोजित करेगी।

राजनीतिक प्रस्ताव का विवरण देते हुए केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि श्री मोदी आतंकवाद के मुद्दे को अंतर्राष्ट्रीय एजेंडा बनाने में सफल रहे हैं।प्रधानमंत्री जी ने पूरे विश्व में आतंकवाद के एजेंडे को प्राथमिकता देने में उनकी बात को उन्होंने दुनिया को समझाया। और विशेष रूप से पाकिस्तान को एक्सपोज करने का काम किया। और पाकिस्तान में किस प्रकार से आतंकवादी संगठन को स्पोर्ट मिलता है, ये भी बात सिद्ध हुई। इसके कारण चीन जैसे देश में भी आतंकवादी संगठन जैश ए मुहम्मद जैसे संगठन के लिए भी भूमिका ली। यह भारत के कुटनीतिक की बहुत बडी सफलता है।