Saturday , November 27 2021
Home / राजनीति / भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों ने एकजुट होने का लिया संकल्प

भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों ने एकजुट होने का लिया संकल्प

पटना 27 अगस्त।राष्ट्रीय जनतादल सुप्रीमों लालू प्रसाद द्वारा आहूत भाजपा भगाओ, देश बचाओ’रैली में मोदी सरकार पर वक्ताओं ने जमकर हमला बोला।रैली में उमड़ी भारी भीड़ से उत्साहित लालू प्रसाद ने ऐलान किया कि 2019 के चुनाव से पहले देश में भाजपा के खिलाफ सशक्त विपक्षी मोर्चा गठित करके ही वह दम लेंगे।

इस रैली में कांग्रेस,तृलमूल कांग्रेस,समाजवादी पार्टी,भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी,कम्युनिस्ट पार्टी,झारखंड मुक्ति मोर्चा,राष्ट्रवादी कांग्रेस सहित 19 दलों में हिस्सा लिया।रैली में लालू प्रसाद यादव ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा।उन्होंने कहा कि नीतीश को तेजस्वी से खतरा महसूस होने लगा था, जिसकी वजह से उन्होंने गठबंधन तोड़ा। नीतीश की राजनीति अब खत्म हो चुकी  है।हम उनके आखिरी शिकार हैं।उन्होने कहा कि..अब सृजन घोटाले में पूरा खेल सामने आने वाला है।इस घोटाले की जांच उच्चतम न्यायालय की निगरानी में सीबीआई से करायी जानी चाहिए।

बिहार में शऱाबबंदी पर भी लालू ने कटाक्ष किया और कहा कि हमने आगाह किया था कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी संभव नहीं है, ऐसा हुआ भी है।आज घर-घर शराब पहुंचाई जा रही है।रैली की मुख्य आकर्षण पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी थी।उन्होने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आने वाले समय में भाजपा के साथ जाने वाली पार्टी नहीं बचेगी।जनता ने मोदी सरकार के पिछले तीन वर्षों के शासन को देखा है। देश में बेरोजगारी बढ़ रही है, किसान आत्महत्या कर रहे हैं। देश को धोखा देने वाली सरकार को जनता माफ नहीं करेगी। जनता लालू जी के साथ है। हम सब लालू, शरद और अखिलेश जैसे लोगों में विश्वास करते हैं।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष एवं उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि हमें देश को बचाना है तो भाजपा को भगाना होगा। भाजपा डिजीटल पार्टी है। इस पार्टी के नेता कमरे में बैठकर देख रहे होंगे कि गूगल पर यहां की क्या तस्वीर है। भाजपा को लगता है कि डिजीटल मीडिया का सहारा लेकर चुनाव जीत जाएंगे लेकिन ऐसा नहीं होने वाला। बाढ़ के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि बाढ़ आई नहीं है वरन लाई गई है। भाजपा ने किसानों और गरीबों को पीछे करने का काम किया है।

रैली के दूसरे आकर्षण जदयू नेता शरद यादव ने बगैर नीतीश का नाम लिए कहा कि इसी मैदान और मंच पर महागठबंधन बना था, लेकिन स्वार्थ ने इसे जीने नहीं दिया। आज देश और राजनीति किस दिशा में जा रही है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि हमारी छाया ही हमसे बगावत कर रही है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने बिहार में गठबंधन तोड़ा है, वो जान लें कि देश में गठबंधन बनेगा।यह संघर्ष  का दौर है जिसमें युवाओं को आगे आना होगा।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने अपने संबोधन में कहा कि असली जदयू शरद यादव हैं। नीतीश कुमार को दोबारा से चुनाव लड़ना चाहिए। इस दौरान उन्होंने, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का रिकॉडेड भाषण, लोगों को सुनाया गया।सोनिया गांधी ने अपने संदेश में कहा कि भाजपा को देश की नहीं, खुद की चिंता है।सोनिया गांधी ने कहा कि किसानों के कर्ज माफ नहीं हो रहे है, लेकिन बड़े कारोबारियों को हरसंभव मदद पहुंचाई जा रही है।आज यह तय करने का वक्त आ गया है कि हमें किस धारा के साथ चलना है।कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी ने राहुल गांधी के लिखित संदेश को पढ़ कर सुनाया।

रैली को बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव,पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी,पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव ने भी सम्बोधित किया.तेज प्रताप में रैली में शंख बजाया और कहा कि भाजपा एवं नीतीश के खिलाफ युद्द के पहले का यह शंखनाद है।रैली में भारी भीड़ जुटी और बिहार के साथ ही उत्तरप्रदेश,झारखंड से भी पार्टी के लोग शामिल होने के लिए पहुंचे।