Saturday , May 28 2022
Home / MainSlide / पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी का निधन

पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी का निधन

कोलकाता 13 अगस्त।पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी का आज सवेरे यहां निधन हो गया। वे 89 वर्ष के थे। उन्‍हें गुर्दे की बीमारी थी।

श्री चटर्जी को हालत गंभीर होने पर उन्‍हें मंगलवार को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हे कल दिल का हल्‍का दौरा पड़ने पर वेंटीलेटर पर रखा गया। अस्‍पताल के अधिकारी के अनुसार सवेरे करीब सवा आठ बजे उनका निधन हो गया।वे 10 बार लोकसभा सांसद और 2004 से 2009 तक लोकसभा अध्यक्ष भी रहे।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द, उप-राष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडू, लोकसभा अध्‍यक्ष सुमित्रा महाजन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज, ‍भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने श्री चटर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। श्री कोविन्द ने ट्वीट संदेश में कहा कि श्री चटर्जी प्रखर राजनेता थे, उनके निधन से देश को अपूरणीय क्षति पहुंची है।
श्री नायडू ने कहा कि श्री चटर्जी अत्‍यंत सह्रदय थे और उन्‍होंने हमेशा लोगों की समस्‍याएं उठाई तथा अपने सिद्धांतों पर अडिग रहे।

लोकसभा अध्‍यक्ष सुमित्रा महाजन ने श्री चटर्जी को बड़ा भाई बताया और कहा कि उनके लोकसभा अध्‍यक्ष के रूप में कार्यकाल से उन्‍हें काफी कुछ सीखने को मिला।उन्होने कहा कि..उनका जो स्‍पीकर का कार्यकाल रहा, मेरे लिए तो वह एक गाइड के रूप में हो गया कि उन्‍होंने जो स्‍थापित किया कि पार्लियामेंट इज सुप्रीम कोई स्‍पीकर को नोबडी केन क्‍वेश्‍चन टू स्‍पीकर समथिंग लाइक देट और फिर स्‍पीकर को भी बिलकुल नियम के मुताबित काम कैसे करना चाहिए..।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि श्री चटर्जी भारतीय राजनीति के शिखर पुरूष थे। उन्होंने संसदीय लोकतंत्र को समृद्ध और मजबूत बनाया तथा गरीबों और पिछड़े वर्ग के लोगों के लिए आवाज़ उठाई।

श्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट में कहा कि श्री चटर्जी मूल्‍यों पर आधारित राजनीति के लिए जाने जाते थे।श्रीमती स्‍वराज ने कहा कि सैद्धांतिक मतभेदों के बावजूद मेरे उनसे बहुत सद्भावपूर्ण संबंध थे।श्री अमित शाह ने कहा कि दस बार सांसद रहे श्री चटर्जी उत्‍कृष्‍ट संसदविद थे।कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने अपने संवेदना संदेश में कहा कि श्री चटर्जी अपने आप में एक संस्‍थान थे और सभी पार्टियों के सांसद उनका सम्‍मान करते थे।