Saturday , November 27 2021
Home / MainSlide / नये बजट से साकार होगा ‘सबका साथ-सबका विकास’ का संकल्प-रमन

नये बजट से साकार होगा ‘सबका साथ-सबका विकास’ का संकल्प-रमन

रायपुर 01 फरवरी। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार आगामी वित्तीय वर्ष 2018-19 के बजट का स्वागत करते हुए कहा कि यह देशवासियों की बेहतरी के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकताओं का बजट है।

डा.सिंह ने आज यहां बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि बजट गत वर्षों की तरह नये वित्तीय वर्ष में भी देश के विकास और गांव-गरीब तथा किसानों के जीवन में उत्साहजनक और सकारात्मक बदलाव लाने में सहायक होगा। उन्होंने इसे एक ऐतिहासिक, लोक हितैषी और क्रांतिकारी बजट बताया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्रीय बजट में ‘सबका साथ-सबका विकास’ के लिए प्रधानमंत्री के संकल्प के साकार होने के उज्ज्वल संकेत मिल रहे हैं।

डॉ.सिंह ने प्रधानमंत्री श्री मोदी और वित्त मंत्री अरूण जेटली को बजट के लिए बधाई देते देते हुए कहा कि आगामी वर्ष के बजट में कई ऐसे लोक कल्याणकारी प्रावधान किए है, जिनका लाभ छत्तीसगढ़ की जनता को भी मिलेगा।बजट में किसानों को उनकी फसलों की लागत का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य देने की जो घोषणा की गई है, उसका फायदा देश के साथ-साथ छत्तीसगढ़ के किसानों को भी मिलेगा। इतना ही नहीं इस बजट में किसानों को फसलों का बेहतर बाजार दिलाने के उद्देश्य से कृषि बाजार के विकास के लिए दो हजार करोड़ रूपए का प्रावधान, कृषि ऋणों के लिए 11 लाख करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है।

उन्होने कहा कि खेती-किसानी को बेहतर बनाने के नेक इरादे के साथ उनकी आमदनी को दोगुना करने का जो संकल्प मोदी सरकार ने लिया है, इस बजट में किए गए कल्याणकारी प्रावधानों से उनका वह संकल्प तेजी से साकार हो सकेगा।डॉ.सिंह ने कहा कि श्री जेटली ने बजट में कृषि प्रधान भारत की उभरती अर्थव्यवस्था के अनुरूप राज्यों के साथ मिलकर काम करने की दिशा में भी कई अच्छे प्रावधान किये हैं। जीएसटी को आसान बनाकर अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने का प्रयास इस बजट में किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आयुष्मान भारत के तहत दो नये प्रावधान लागू करके प्रति परिवार सालाना 5 लाख रूपए तक स्वास्थ्य सुविधा और टीबी के मरीजों को पौष्टिक आहार के लिए हर महीने पांच सौ रूपए की सहायता देने की घोषणा भी ऐतिहासिक है और स्वागत योग्य है।उन्होने कहा कि अनुसूचित जाति वर्ग के विकास के लिए केन्द्र ने अपने नये बजट में 56 हजार करोड़ रूपए से ज्यादा राशि का एस.सी. कल्याण फण्ड बनाया है।