Saturday , May 21 2022
Home / MainSlide / जोगी ने भावनात्मक अंदाज में लोगो से रिश्ते जोड़ते हुए भाजपा एवं कांग्रेस को घेरा

जोगी ने भावनात्मक अंदाज में लोगो से रिश्ते जोड़ते हुए भाजपा एवं कांग्रेस को घेरा

रायपुर 29अप्रैल।जनता कांग्रेस के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने अपने 72वेंजन्मदिन पर आज एक बड़ी रैली कर एक तरफ कांग्रेस एवं भाजपा पर जमकर हमला बोला तो दूसरी ओर लोगो से भावनात्मक अंदाज में रिश्ते जोड़ते हुए कहा कि अब वह परिवार के लिए नही लोगो को आगे बढ़ाने के लिए काम कर रहे है।

श्री जोगी ने सांइस कालेज मैदान में इस रैली में अपने सम्बोधन की शुरूआत 2004 में हुई सड़क दुर्घटना से लेकर बाल्यावस्था के संघर्षों से कर भावनात्मक टच दे दिया।श्री जोगी ने कहा कि कि.. मैं गरीब घर में पैदा हुआ. माता पिता ने कैसे पाला-पोसा मैं बता नहीं सकता. मैं हल(नांगर) जोता हूं. ब्यासी करा हूं. धान की पिटाई की है. हंसिया से फसल काटा है. सिर पर बोझा ढोया है. सब काम मैंने अपने हाथों से किया है।पढ़ने के लिए मैं पैदल जाता था।

उन्होने कहा कि..मैं इंजीनियर बन गया, वकील बन गया, प्रोफेसर बन गया, आईपीएस बन गया, आईएएस बन गया. कलेक्टरी का मेरा रिकार्ड रहा है. 13 साल मैं कलेक्टर रहा हूं।राज्यसभा, लोकसभा, विधानसभा सब जगह पहुंचा हूं.छत्तीसगढ़ के सभी देवी देवता की कृपा से मैं यहां का पहला मुख्यमंत्री भी बना. मेरा एक ही बेटा है,अमित जोगी, वह भी एमएलए बन गया. पत्नी है रेणु जोगी. वह भी तीन बार की विधायक बन गई है.मेरे पास अब क्या कमी है।

श्री जोगी ने कहा कि..सरकारी घर है, सरकारी गाड़ी है. आईएएस, राज्यसभा, लोकसभा, मुख्यमंत्री सबका मुझे पैसा मिल रहा है।इन सबके बावजूद आज मैं व्हीलचेयर पर क्यों आया हूं? मेरी जगह कोई दूसरा होता, तो खटिया में तानकर सो रहा होता. मजे से पड़े रहता, लेकिन मैं यहां आपके बीच आया हूं. सिर्फ इसलिए की मेरे जीवन का एक-एक पल आपके लिए है. मेरा जीवन अब अमित जोगी, रेणु जोगी के लिए नहीं है. मैं गरीब से अमीर बना हूं. मैं चाहता हूं कि छत्तीसगढ़ का एक-एक लड़का, एक-एक लड़की अजीत जोगी बने..।

उन्होने कहा कि मैंने नई पार्टी बनाई तो यह सवाल उठा कि क्यों बनाई है? यहां दो पार्टी राज करती रही हैं. एक हाथ छाप जिसे कांग्रेस कहते हैं, जिसने 55 साल राज किया है औऱ दूसरी बीजेपी, जो बीते 15 सालों से राज कर रही है. दोनों पार्टी का फैसला यहां नहीं होता।डा.रमन सिंह ने पिछले चुनाव में कहा था कि बीजेपी सरकार आई, तो 2400 रूपए समर्थन मूल्य और 300 रूपए बोनस देंगे. लेकिन जब देने की पारी आई, तब वह दिल्ली चले गए, क्योंकि वहां दूसरा झूठा आदमी बैठा था।