Thursday , December 9 2021
Home / MainSlide / छत्तीसगढ़ में बन रहे लाजिस्टिक हब में निवेश के लिए निवेशकों ने दिखायी रूचि

छत्तीसगढ़ में बन रहे लाजिस्टिक हब में निवेश के लिए निवेशकों ने दिखायी रूचि

रायपुर/नई दिल्ली 07दिसम्बर।छत्तीसगढ़ के नया रायपुर में बन रहे महात्वाकांक्षी लाजिस्टिक हब में निवेश के लिए देश के बड़े निवेशकों ने रूचि दिखाई है।

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने इस संदर्भ में आज नई दिल्ली में निवेशकों के एक प्रतिनिधिमण्डल के साथ विस्तृत चर्चा की।मुख्यमंत्री से वस्त्र निर्माण और इलेक्ट्रानिक्स मैन्यूफैक्चरिंग में निवेश के लिए चीनी और बांग्लादेशी प्रतिनिधिमंडल ने भी मुलाकात की।मुख्यमंत्री ने सभी निवेशकों से आग्रह किया कि वे विस्तृत चर्चा के लिए छत्तीसगढ़ आये। उन्होंने कहा कि वर्तमान में छत्तीसगढ़ देश में निवेश के लिए सबसे बेहतर जगह है।
लाजिस्टिक हब में निवेश के लिए अग्रवाल पैकर्स और मूवर्स के रमेश अग्रवाल, वलकॉन प्रायवेट लिमिटेड के देवीदयाल गर्ग, कानटीनेंटल कैरियरर्स के श्री विपिन वोहरा और दिल्ली-बड़ौदा रोड कैरियर्स के जुगल बवेजा ने मुख्यमंत्री से चर्चा की।मुख्यमंत्री ने उन्हें बताया कि छत्तीसगढ़ देश के मध्य में स्थित है और रोड, रेल और एयर कनेक्टिविटी में देश में सबसे बेहतर स्थिति में है।उन्होंने कहा कि इसके साथ ही हमारी उद्योग और व्यापार नीति निवेशकों के लिए अनुकूल है और हमारे पास प्रशिक्षित युवाओं की आसान उपलब्धता है।
डॉ.सिंह से चीनी निवेशकों के एक दल ने भी चर्चा की। इसमें शेनझेन फेनिक्स कम्पनी के डायरेक्टर जेसन और अन्य सदस्य शामिल थे।मुख्यमंत्री ने कहा कि नया रायपुर में हम इलेक्ट्रानिक मैन्यूफैक्चरिंग क्लस्टर विकसित कर रहे है।उन्होंने चीनी निवेशकों को नया रायपुर के अवलोकन के लिए आमंत्रित किया।इसके अलावा वस्त्र निर्माण से संबंधित बंगलादेशी ईकाई सिम्बा फैशन के नवनीत भगत और मोडेलामा एक्सपोर्ट के गगन गुलाटी से भी चर्चा की। मुख्यमंत्री ने उन्हें बताया कि छत्तीसगढ़ में वस्त्र निर्माण ईकाई में काम करने के लिए प्रशिक्षित युवा उपलब्ध है और सरकार उनकी ईकाईयों के अनुरूप प्रशिक्षण के लिए उन्हें सहयोग उपलब्ध करा सकती है।

चर्चा के दौरान उद्योग विभाग के सचिव कमलप्रीत सिंह, छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम के प्रबंध संचालक सुनील मिश्रा, आवासीय आयुक्त संजय ओझा, जनसंपर्क विभाग के विशेष सचिव राजेश कुमार टोप्पो और विशेष कर्त्तव्यस्थ अधिकारी अरूण बिसेन उपस्थित थे।