Wednesday , January 26 2022
Home / MainSlide / छत्तीसगढ़ में 16 एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय स्वीकृत

छत्तीसगढ़ में 16 एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय स्वीकृत

रायपुर 30 जून।छत्तीसगढ़ में 16 नये एकलव्य आदर्श आवसीय विद्यालय स्वीकृत किए गए हैं।इसके साथ ही राज्य के सभी 41 एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों में सीबीएससी पाठ्यक्रम संचालित किए जाने का अनुमोदन किया गया है।

आदिम जाति एवं अनुसूचित जनजाति मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम की अध्यक्षता में कल शाम मंत्रालय में छत्तीसगढ़ राज्य स्तरीय आदिम जाति कल्याण आवासीय एवं आश्रम शैक्षणिक संस्थान समिति ‘संचालक मंडल’ की बैठक में यह जानकारी दी गई।

डॉ.टेकाम ने एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों में कक्षा 6वीं से ही सीबीएससी पाठ्यक्रम प्रारंभ किए जाने के निर्देश दिया।इन विद्यालयों की रैंकिंग शिक्षा, खेल और अन्य गतिविधियों की उपलब्धियों के आधार पर की जाए।ड्राप आउट लेकर पीईटी और पीएमटी जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों को भी इन विद्यालयों के माध्यम से आगे की पढ़ाई की व्यवस्था की जाए।इन विद्यालयों में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए प्रयास विद्यालय की तर्ज पर कोचिंग की व्यवस्था की जाए।

उन्होंने विद्यालय के वृक्षारोपण में बच्चों की भागीदारी बढ़ाने को कहा तथा वृक्षारोपण का अच्छा कार्य करने वाले बच्चों को प्रोत्साहित करने को भी कहा। स्कूल और आवास में रहने वाले बालक और बालिकाओं के लिए अच्छी दिनचर्या की कार्ययोजना बनाकर उसे अमल में भी लाए। कार्ययोजना में संस्कृतिक प्रदर्शन के माध्यम से राष्ट्रीयता की भावना बढ़ाए। स्वस्थ तन-स्वस्थ मन योजना के तहत बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण कराए।

डॉ.टेकाम ने पढ़ाई में कमजोर बच्चों को विशेष कोचिंग देने, निर्धारित मानक अनुसार पोषण आहार प्रदान करने के निर्देश भी दिए।इन संस्थाओं की समीक्षा और रोस्टर बनाकर निगरानी के लिए जिला स्तर पर डिप्टी कलेक्टर के समकक्ष या वरिष्ठ अधिकारी को प्रशासक नियुक्त किया जाए। निरीक्षण के लिए एक मानक पत्र तैयार कर प्रत्येक तीन माह में अंक प्रदाय कर रैंकिंग की जाए। राज्य स्तर पर उत्कृष्ट एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय की ग्रेडिंग की जाए।