Friday , December 3 2021
Home / MainSlide / छत्तीसगढ़ में स्कूलों और जेलों में नियमित योग शिविर लगाने की तैयारी शुरू

छत्तीसगढ़ में स्कूलों और जेलों में नियमित योग शिविर लगाने की तैयारी शुरू

रायपुर 25अक्टूबर।छत्तीसगढ़ योग आयोग ने राज्य के सभी ग्राम पंचायत मुख्यालयों, स्कूलों(पूर्व माध्यमिक और हाईस्कूल) तथा जिलों में नियमित योग शिविर लगाने के लिए तैयारी शुरू कर दी है।इसके लिए समयबद्ध कार्यक्रम बनाया गया है।

इस कार्यक्रम के प्रथम चरण में बस्तर संभाग के मुख्यालय जगदलपुर में बीते आठ अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक सात दिवसीय आवासीय योग प्रशिक्षण शिविर लगाया गया।इसमें बस्तर संभाग के सभी जिलों के 268 प्रतिभागियों को मास्टर ट्रेनर के रूप में योग का प्रशिक्षण दिया गया है।

छत्तीसगढ़ योग आयोग के अध्यक्ष संजय अग्रवाल की अध्यक्षता में आज यहां आयोजित विशेष बैठक में यह जानकारी दी गई। बैठक में आयोग द्वारा बनाई गई कार्ययोजना पर व्यापक चर्चा की गई।आयोग के अध्यक्ष श्री अग्रवाल ने प्रदेश में आयोग बनाने के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि बेहतर स्वास्थ्य, व्यसन मुक्ति और स्वच्छता के लिए काम करना हमारी प्राथमिकता में हैं। उन्होंने कहा कि योग को आम लोगों की दिनचर्या का हिस्सा बनाने के लिए आयोग पूरी संवेदनशीलता से काम कर रहा है।इसके लिए सभी के सहयोग से सुव्यवस्थित कार्यक्रम चलाना होगा।

बैठक में आयोग के सदस्य डॉ. रवि श्रीवास, सदस्य ब्रम्हाकुमारी बहन वी.के. मंजू, सदस्य श्री अजय सिंह सहित आयोग के सचिव श्री एम.एल. पाण्डेय, अपर संचालक उच्च शिक्षा श्री एस.एन. राठौर, श्री बी.एल. बंजारे, श्री पंकज वर्मा (समाज कल्याण विभाग), श्री विलियम लकड़ा, उप संचालक खेल एवं युवा कल्याण, श्री ए.के. रघुवंशी, लोक निर्माण विभाग, डॉ. बसंत माहेश्वरी, उप संचालक, डीएमई, श्री त्रिलोचन साहू, प्राचार्य, श्री पी.पटेल, श्री टी.आर.कुर्रे उपस्थित थे।

श्री अग्रवाल ने बैठक में कहा कि हर इंसान के लिए उत्तम स्वास्थ्य सबसे बड़ी पूंजी होती है। मानसिक रूप से स्वस्थ रहने योग महत्वपूर्ण होता है। योग को हर इंसान के लिए जरूरी बनाने जमीन से जुड़कर काम करने की जरूरत है। आयोग ने इसके लिए सभी ग्राम पंचायत मुख्यालयों, स्कूलों (पूर्व माध्यमिक और हाईस्कूल) और जेलों में अलग-अलग विशेष पाठ्यक्रम बनाकर शिविर संचालित करने की कार्ययोजना बनाई है। कार्ययोजना के तहत प्रथम चरण में बस्तर संभाग में प्रशिक्षण का कार्यक्रम सफलतापूर्वक कर लिया गया है। दूसरे चरण में बस्तर संभाग में विकासखण्ड स्तर पर प्रशिक्षण देने शिविर लगाया जाएगा। इसके साथ ही दुर्ग और रायपुर संभाग में प्रथम चरण प्रशिक्षण शिविर शुरू किया जाएगा।