Sunday , January 23 2022
Home / MainSlide / छत्तीसगढ़ में पंजीयन राजस्व में जुलाई तक 28 प्रतिशत बढ़ोतरी

छत्तीसगढ़ में पंजीयन राजस्व में जुलाई तक 28 प्रतिशत बढ़ोतरी

रायपुर 04 अगस्त।छत्तीसगढ़ में चालू वित्तीय वर्ष 2019-20 में अप्रैल से जुलाई माह तक 406 करोड़ रूपए का पंजीयन राजस्व प्राप्त हुआ है।यह पिछले वर्ष इसी अवधि में प्राप्त राशि से 28 प्रतिशत अधिक है।

राजस्व एवं वाणिज्यिक कर (पंजीयन) मंत्री जय सिंह अग्रवाल की अध्य़क्षता आयोजित समीक्षा बैठक में यह जानकारी दी गई।बैठक में उन्होंने चालू वित्तीय वर्ष में अब तक प्राप्त पंजीयन राजस्व की जिलेवार समीक्षा की।उन्होंने पंजीबद्ध दस्तावेजों तथा मुद्रांक, आर.आर.सी., न्यायालयीन और ऑडिट प्रकरणों की जिलेवार जानकारी लेने के साथ ही ई-पंजीयन कार्यप्रणाली की भी समीक्षा की।

श्री अग्रवाल ने बैठक में पंजीयन की प्रक्रिया को सरल और त्वरित बनाने राज्य सरकार द्वारा जनहित में लिए जा रहे फैसलों को नियमित रूप से लोगों तक पहुंचाने के निर्देश दिए। उन्होंने विभागीय अधिकारियों और कर्मचारियों को भी शासन के नए फैसलों और प्रावधानों के बारे में पूरी जानकारी रखने कहा।उन्होंने बताया कि जमीनों की गाइडलाइन दर 30 प्रतिशत कम करने और 75 लाख रूपए कीमत तक के आवासीय संपत्ति का पंजीयन दर 4 प्रतिशत से घटाकर 2 प्रतिशत करने का निर्णय हाल ही में राज्य सरकार ने लिया है।

पंजीयन एवं मुद्रांक महानिरीक्षक धर्मेश साहू ने समीक्षा बैठक में बताया कि चालू वित्तीय वर्ष में एक हजार 500 करोड़ रूपए राजस्व प्राप्ति का लक्ष्य है।वित्तीय वर्ष 2019-20 में अप्रैल से जुलाई माह तक 406 करोड़ रूपए का पंजीयन राजस्व प्राप्त हुआ है।यह पिछले वर्ष इसी अवधि में प्राप्त राशि से 28 प्रतिशत अधिक है। विभाग द्वारा इस दौरान 85 हजार 250 दस्तावेजों का पंजीयन किया गया है, जो पिछले वर्ष की तुलना में 18 प्रतिशत अधिक है।