Tuesday , November 30 2021
Home / MainSlide / छत्तीसगढ़ के प्रथम भौगोलिक सूचना प्रणाली लैब का लोकार्पण

छत्तीसगढ़ के प्रथम भौगोलिक सूचना प्रणाली लैब का लोकार्पण

रायपुर 20 जनवरी।महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत छत्तीसगढ़ के प्रथम भौगोलिक सूचना प्रणाली (जी.आई.एस.) लैब  का लोकार्पण मनरेगा के आयुक्त पी.सी. मिश्रा ने किया।

लैब का लोकार्पण ठाकुर प्यारेलाल पंचायत एवं ग्रामीण विकास एवं प्रशिक्षण संस्थान निमोरा में आयोजित मनरेगा की राज्य स्तरीय बैठक के दौरान की गई। सूखे से निपटने के लिए मनरेगा से बनने वाली जल संरक्षण एवं जल संचय से संबंधित संरचनाओं के निर्माण में उपयु्क्त स्थान के चयन के लिए भौगोलिक सूचना प्रणाली तकनीक का उपयोग एक प्रभावी और सशक्त माध्यम है।

आयुक्त मनरेगा श्री मिश्रा ने जी.आई.एस. लैब के शुभारंभ अवसर पर कहा कि महात्मा गांधी नरेगा के अंतर्गत राज्य स्तर पर स्थापित यह लैब, प्रदेश का प्रथम भौगोलिक सूचना प्रणाली सुविधा केन्द्र है।इस सुविधा केन्द्र में प्रदेश में योजनांतर्गत पदस्थ तकनीकी सहायकों को जी.आई.एस. तकनीक में दक्ष किया जाएगा।दक्षता प्राप्त करने के बाद ये मनरेगा के अंतर्गत गांवों में किस जगह कौन-सी जल संरचना बनाने से पानी संग्रहित होगा और किन संरचनाओं से भू-जल संवर्धित होगा, इसका चिन्हांकन कर उन संरचनाओं का प्राक्कलन तैयार कर सकेंगे।