Wednesday , December 1 2021
Home / MainSlide / चक्रवाती तूफान ओखी तेज होने से केरल तथा तमिलनाडु में भारी वर्षा

चक्रवाती तूफान ओखी तेज होने से केरल तथा तमिलनाडु में भारी वर्षा

चेन्नई/तिरूवंतपुरम 02 दिसम्बर।चक्रवाती तूफान ओखी तेज होने से लक्षद्वीप और केरल तथा तमिलनाडु के दक्षिणी इलाकों में भारी वर्षा हो रही है।केरल और लक्षद्वीप के कई इलाकों में समुद्र का जल स्तर काफी बढ़ गया है।

मौसम विभाग ने कहा है कि अगले 24 घंटे में चक्रवाती तूफान ओखी और तेज हो जाएगा। इस दौरान इसके पश्चिम उत्तर पश्चिम दिशा में आगे बढ़ते हुए समूचे लक्षद्वीप तक पहुंच जाने की संभावना है।लक्षद्वीप और आसपास के समुद्री इलाकों और केरल के तटवर्ती क्षेत्रों में अगले 24 घंटे के दौरान समुद्र में ऊंची लहरें उठेंगी। केरल में वर्षा से जुड़ी घटनाओं में मरने वालों की संख्या सात होने की खबर है।

केरल और लक्षद्वीप के कई इलाकों में समुद्र का जल स्तर काफी बढ़ गया है।राज्य के अधिकारियों ने बताया कि नौसेना और तटरक्षक बल की संयुक्त टीम समुद्र में फंसे 300 से अधिक मुछआरों को बचाने का प्रसास कर रही है। शेष लापता लोगों की तलाश का काम जारी है। तिरूवनंतपुरम में मुख्यमंत्री पिन्नराई विजयन ने राज्य में वर्षा से जुड़ी घटनाओं में जान गवाने वाले लोगों के परिवारों को 10-10 लाख रूपये का मुआवजा देने की घोषणा की है।

इस बीच, लक्षद्वीप में मिनी कॉय और कलपेनी द्वीप सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं। लक्षद्वीप में भारी वर्षा और तूफान से सामान्य जनजीवन पर असर पड़ा है। क्षेत्र में यातायात, संचार व्यवस्था और विद्युत आपूर्ति को नुकसान पहुंचा है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह लक्षद्वीप के अधिकारियों के लगातार संपर्क में हैं और स्थिति का जायजा ले रहे हैं। नियंत्रण कक्ष और राहत शिविर बनाए गए हैं। लक्षद्वीप और तटीय केरल में नौसेना तथा तटरक्षक बल के जवान नागरिकों के साथ मिलकर बचाव कार्य में जुटे हैं

तूफान ने तमिलनाडु के दक्षिणी जिले कन्याकुमारी में काफी तबाही मचाई है, जिससे वहां जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। भारतीय तटरक्षक बल समुद्र में लापता मछुआरों को बचाने के लिए तलाश अभियान चला रहा है। खबर है कि कन्याकुमारी जिले में मरने वालों की संख्या 10 हो गई है। हमारे संवाददाता ने बताया है कि तूफान से बुरी तरह प्रभावित कुछ गांवों में अभी भी पानी भरा है

चक्रवाती तूफान ओखी के कारण कन्याकुमारी जिले में हजारों एकड़ में फैली रबर की खेती बर्बाद हो गई है। तेज हवाओं के कारण हजारों एकड़ भूमि में केले के बागों को भी काफी नुकसान पहुंचा है। समुद्र में गए मछुआरों से कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है। कुछ मछुआरों को पड़ोसी राज्य केरल में बचाया गया है। अधिकारी बचाए गए मछुआरों की पहचान और उन्हें वापस लाने के लिए रवाना हो गए हैं।

कन्याकुमारी में प्रसिद्ध विवेकानंद मेमोरियल और तिरूवल्लूवर प्रतिमा तक नौका सेवा स्थगित कर दी गई है। अधिकारियों ने बताया है कि जिले के प्रभावित क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति आज से बहाल कर दी जाएगी।