Sunday , February 18 2018
Home / आलेख

आलेख

राष्ट्रवाद: ‘खादी- फेब्रिक्स’ का महीन सूत ‘चाईनीज-मांजे’ में बदला – उमेश त्रिवेदी

राष्ट्रवाद की कताई, बुनाई और धुनाई की तकनीकी के इस नए दौर में समझना मुश्किल होता जा रहा है कि सामाजिक, राष्ट्रीय और निजी जीवन में कौन सा राष्‍ट्रवाद धारण करना मुनासिब होगा अथवा आपकी सामाजिक सेहत के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद होगा? राष्ट्रवाद की अदृश्य लक्ष्मण-रेखाएँ कहीं भी और …

Read More »

‘ये जाटों, ये खापों, लड़ाकों की दुनिया, ‘लोकतंत्र’ के दुश्मन समाजों की दुनिया’ -उमेश त्रिवेदी

21वीं सदी में खुशनुमा जिंदगी के नाम पर दौड़ते भारत की कहानी में हर दिन दिल दहलाने वाले कारनामे जुड़ रहे हैं। घटनाओं का डरावना पहलू यह है कि खुद सरकारें राजनीतिक-दुष्कर्मों को लीड कर रही हैं। सरकारों के कारनामे समाज में भ्रष्टाचार को संगठित करने के साथ-साथ अपराधों की …

Read More »

बिटविन द लाइन्स: भागवत ने सेना से नहीं, समाज से कुछ कहा है – उमेश त्रिवेदी

आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत व्दारा सेना और संघ के स्वयंसेवकों की तुलना के बाद उठे राजनीतिक सवालों ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सूत्रधारों को असहज कर दिया है। मोटे तौर पर राजनीतिक प्रतिक्रियाओं को अनसुना करने वाले इस संगठन की बेचैनी यूं समझ में आती है कि संघ-प्रमुख के …

Read More »

आम आदमी को कितना राहत पहुंचाएगा मोदी केयर ? – डा.संजय शुक्ला

मोदी सरकार ने अपने चुनावी बजट में ओबामा केयर की तर्ज पर नेशनल हेल्थ प्रोटेशन स्कीम (आयुष्मान भारत योजना) का ऐलान किया है। दुनिया के सबसे बड़े इस सरकारी वित्त पोषित स्वास्थ्य बीमा योजना को मीडिया ने ‘‘मोदी केयर’’ की संज्ञा दी है। इस योजना के तहत देश के 10 …

Read More »

म.प्र में किसने बनाया कोलारस उपचुनाव को सिंधिया बनाम सिंधिया – अरुण पटेल

मध्यप्रदेश में मुंगावली और कोलारस विधानसभा उपचुनावों की लड़ाई एक प्रकार से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व केंद्रीय मंत्री कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के मध्य प्रतिष्ठा की बन गई है। वैसे इन दोनों उपचुनावों में भाजपा के लिए खोने को कुछ नहीं है जबकि सिंधिया के सामने सबसे बड़ी …

Read More »

लोग देख रहे है कि सुरक्षा के मामले में राजनीति कौन कर रहा है ?- उमेश त्रिवेदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के दो सवालों पर उव्देलित होकर आरोप लगा रही है कि देश की सुरक्षा से जुड़े संवेदनशील मुद्दों पर कांग्रेस की भूमिका गैर-जिम्मेदार और देशहित में नहीं है। राहुल की जिद है कि मोदी-सरकार राफेल लड़ाकू विमानों के सौदे में खुलासा …

Read More »

‘इंडिया-फर्स्ट’ पर भारी ‘ब्रेन ड्रेन’ और ‘वेल्थ ड्रेन’ का नया ट्रेण्ड – उमेश त्रिवेदी

राष्ट्रवाद की उग्र तकरीरों से भारत की तकदीर लिखने को आतुर लोगों के लिए न्यू वर्ल्ड वेल्थ की यह रिपोर्ट घोर चिंता का विषय होना चाहिए कि हर साल अपना देश छोड़कर विदेशों में बसने वाले करोड़पति भारतीयों की संख्या निरन्तर तेजी से बढ़ रही है। प्रतिभा-पलायन या ‘ब्रेन-ड्रेन’ की …

Read More »

बकौल वैश्विक-रिपोर्ट भारत का प्रजातंत्र दरक रहा है… उमेश त्रिवेदी

नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद जब पहली बार संसद की देहरी पर माथा टेका था, तो लगा था कि देश का प्रजातंत्र नई ऊचाइयां हासिल करेगा, लेकिन विडम्बना यह है कि उन्हीं के कार्यकाल में भारतीय प्रजातंत्र सबसे ज्यादा गिरावट के दौर से गुजर रहा है। अंतर्राष्ट्रीय इकोनॉमिक …

Read More »

अमेठी में राहुल के सामने बढ़ रही हैं चुनौतियां – राज खन्ना

अमेठी में 1981 में स्व.राजीव गांधी के मुकाबले शरद यादव भारी अन्तर से चुनाव हारे थे। मतदान से मतगणना तक धांधली की शिकायत करते शरद यादव ने अमेठी में डटे रहने का निश्चय किया था। उन्होंने कुछ दिनों तक जनसरोकारों को लेकर धरना-प्रदर्शन जैसी कोशिशें की। फिर वह निराश हो …

Read More »

मोदी-थीसिस: ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ के राजनीतिक-निहितार्थ – उमेश त्रिवेदी

लोकसभा में बजट-सत्र के पहले दिन अभिभाषण में राष्ट्रपति की दलीलों के बाद देश की सियासत में ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव’ की पुरानी थीसिस पुराने तथ्यों और नए तर्कों के साथ नई जिल्द में देश के सामने है। राष्ट्रपति की दलीलों पर राजनीतिक शास्त्रार्थ शुरू हो चुका है और पार्टियों …

Read More »

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com