Friday , June 5 2020
Home / आलेख

आलेख

‘रोटी की चाह’ – ‘उस पथ पर देना फेंक,जिस पथ चले श्रमिक अनेक’- उमेश त्रिवेदी

औरंगाबाद में बदनापुर और करमाड़ के बीच शुक्रवार को तड़के एक मालगाड़ी की चपेट में आने वाले 16 प्रवासी मजदूरों की मौत की यह कहानी कोरोना की चपेट में कहीं सिसक-सिसक कर दम नहीं तोड़ दे… क्योंकि यह हादसा उऩ तमाम मंसूबो पर पानी फेर सकता है, जो न्यू-इंडिया के …

Read More »

ऐसी प्रजा कहां मिलती, नरेंद्र भाई ! – पंकज शर्मा

मैं ऐसे बहुत-से लोगों को जानता हूं, जो छह साल पहले मानते थे कि भारत को नरेंद्र भाई मोदी से बेहतर प्रधानमंत्री मिल ही नहीं सकता है और अब मानते हैं कि वे ग़लत साबित हो गए हैं। मैं ऐसे भी बहुत-से लोगों को जानता हूं, जो एक साल पहले …

Read More »

‘घर-वापसी’ के सवालों में घिरा ‘पीएम केअर्स फंड’ का इस्तेमाल – उमेश त्रिवेदी

कोविड-19 के दरम्यान तबलीगी जमात, सेना की पुष्प वर्षा और राष्ट्रीय एकता की मजबूती से जुड़े घटनाक्रमों के बीच हाशिए पर खड़े घर वापसी के लिए परेशान करोड़ों प्रवासी मजदूर एकाएक राजनीति और मीडिया के मेन-स्ट्रीम में सुर्खियां बटोरने लगे हैं। सबब यह है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने …

Read More »

विभाजन और महात्मा गांधी – राज खन्ना

गांधी जी बैठक में नही थे। पर कार्यवाही में छाए हुए थे। देश की किस्मत का फैसला लिया जा चुका था। अब फिक्र इस फैसले पर गांधी जी की प्रतिक्रिया की थी। वायसराय माउंटबेटन चिंतित थे। गांधी जी खिलाफ़ गए, तो हालात काबू के बाहर चले जायेंगे। 3 जून 1947 …

Read More »

कोरोना की कराहों में सेना के जरिए ‘वाह-वाह’ की तलाश…- उमेश त्रिवेदी

देश में कोरोना से लड़ने वाले भारत के कर्मवीर योद्धाओं के वंदन अभिनंदन के प्रसंग में भारतीय सेना की गैरजरूरी पहल के बाद लोगों के जहन में सेना के राजनीतिकरण से होने वाले नुकसान की आशंकाएं फिर आकार लेने लगी हैं। मौजूदा हालात में सेना की सलामी का गैर जरूरी …

Read More »

दर्शकों की ‘रियल-लाइफ’ में ‘रील-लाइफ’ का रोमांच थे इरफान… – उमेश त्रिवेदी

‘इरफान का पूरा नाम साहबजादे ’इरफान’ अली खान था और उनके पिता कहा करते थे कि वह पठान-परिवार मे पैदा हुआ ब्राम्हण है…वो शाकाहारी थे, उनके मन की हमदर्दी, दया और करूणा उन्हें शिकार करने से रोकती थी…।’ इरफान खान से संबंधित ऐसी अनेक जानकारियों से दुनिया भर की वेबसाइट्स, …

Read More »

‘नास्त्रेदमस’ के मोदी और ‘सतयुग’ में ‘सियासी-सत्कर्म’(?) की कहानी – उमेश त्रिवेदी

विश्‍व-गुरू’ और ’वैश्‍विक आर्थिक शक्ति’ बनने के लिए आतुर भारत के प्रारब्ध को लेकर लोगों के मन में उत्सुकता स्वाभाविक है। इतिहास-भूगोल, वेद-पुराण, भृगु-संहिता, ज्योतिष शास्त्र के साथ पिंजरे में बंद तोता-मैना की प्रश्‍नावलियों तक, महान भारत की तलाश अर्से से जारी है। सोलहवी शताब्दी फ्रांस में जन्मे विश्‍वविख्यात भविष्यवक्ता …

Read More »

कोरोना के बाद की दुनिया कैसी होगी? –रघु ठाकुर

कोरोना के वैश्विक संकट से समूची दुनिया में बहस शुरू हुई है और इस महामारी के विश्व पर क्या प्रभाव हो सकते हैं ? इसकी भी चर्चा शुरू हो रही है।भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने भी भविष्य को लेकर कुछ बिंदु अपने लेख के माध्यम से रखे …

Read More »

ट्रम्प पर सितम, मोदी पर करम… ऐ मीडिया, तू ये जुर्म न कर… – उमेश त्रिवेदी

अमेरिका के तथाकथित बे-मुरव्वत, बे-रहम और बे-गैरत मीडिया के शत्रुतापूर्ण सवालों से उत्तेजित अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की नाराजी के बाद भारत में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रति मीडिया की रहमदिली और रजामंदी के अफसानों की खामोशी छप्पन इंच का सीना तानकर लोकतंत्र के सामने खड़ी हो गई है। अमेरिका …

Read More »

गांधी और जिन्ना – राज खन्ना

गांधी जी ने कहा,” जब आप बताएंगे कि प्रस्ताव मेरा है, तो जिन्ना कहेंगे “धूर्त गांधी।” माउंटबेटन की टिप्पणी थी,” और मैं समझता हूं जिन्ना सही होंगे।” वायसराय की जिम्मेदारी संभालने के बाद माउंटबेटन ने भारतीय नेताओं से मुलाकात का सिलसिला शुरु किया। 1 और 2 अप्रेल 1947 को माउंटबेटन …

Read More »

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com