Monday , August 26 2019
Home / MainSlide / लोकसभा में अंतरिम बजट ध्वनि मत से पारित

लोकसभा में अंतरिम बजट ध्वनि मत से पारित

नई दिल्ली 11 फरवरी।लोकसभा ने आज शोर-शराबे के बीच अंतरिम बजट ध्‍वनि मत से पारित कर दिया। इसके साथ ही तत्संबंधी विनियोग विधेयक को भी मंजूरी दे दी।

वित्‍त मंत्री पीयूष गोयल ने अंतरिम बजट पर हुई चर्चा का उत्‍तर देते हुए कहा कि जब से नरेन्‍द्र मोदी सरकार सत्‍ता में आई है, देश लगातार विकास के पथ पर अग्रसर है। उन्‍होंने कहा कि एनडीए सरकार ने पिछले पांच वर्षों में समाज के प्रत्‍येक वर्ग के लिए अथक प्रयास किये हैं और उन सभी का ध्‍यान रखा है। आर्थिक उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए वित्‍त मंत्री ने कहा कि एनडीए सरकार राजकोषीय घाटा तीन दशमलव चार प्रतिशत पर ले आई है। श्री गोयल ने कहा कि करों में राहत देकर सरकार ने मध्‍यवर्ग का भी ख्‍याल रखा है।

     उन्होने प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि का उल्‍लेख करते हुए कहा कि इससे किसानों को खाद्य सुरक्षा मिलेगी।श्री गोयल ने कहा कि यूपीए सरकार ने अपने दस वर्षों के कार्यकाल में आम बजट में किसानों के लिए कोई विशेष प्रावधान नहीं किया।श्री गोयल ने कहा कि एनडीए सरकार पिछले पांच वर्षों में किसानों के लिए अनेक योजनाएं लेकर आई है। वित्‍त मंत्री ने कहा कि सरकार ने 22 फसलों के न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य में डेढ़ गुना वृद्धि की है।

श्री गोयल ने बजट को ईमानदार बताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी चाहते हैं कि ईमानदार बजट देश की आदत बने। उन्‍होंने आरोप लगाया कि पहले की यूपीए सरकार ने बजट में अनेक वायदे किेये थे लेकिन उन्‍हें पूरा नहीं किया। उन्‍होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस इस बात को हजम नहीं कर पा रही कि देश की अर्थव्‍यवस्‍था पिछले पांच वर्षों में पहले से मजबूत हुई है।श्री गोयल ने विपक्ष के इस आरोप को खारिज कर दिया कि यह एक पूर्ण बजट है। उन्‍होंने कहा कि यह केवल एक अंतरिम बजट ही है।

वित्‍त मंत्री जब उत्‍तर दे रहे थे, तेलुगुदेशम पार्टी और कांग्रेस के सदस्‍य सदन में शोर-शराबा कर रहे थे। टीडीपी के सदस्‍य आंध्र प्रदेश के लिए विशेष दर्जा देने की मांग कर रहे थे, जबकि कांग्रेस के सदस्‍य रफाल विमान सौदे पर जेपीसी के जांच की मांग कर रहे थे। बाद में कांग्रेस सदस्‍य सदन से उठकर चले गये।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com