Friday , January 28 2022
Home / MainSlide / सरकार ने देश में कारोबार को आसान बनाने के लिए किए कई उपाय – मोदी

सरकार ने देश में कारोबार को आसान बनाने के लिए किए कई उपाय – मोदी

देहरादून 07 अक्टूबर।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि सरकार ने देश में कारोबार को आसान बनाने के लिए कई उपाय किये है।

श्री मोदी ने आज यहां पहले उत्‍तराखंड निवेशक सम्‍मेलन का उद्घाटन करते हुए कहा कि देश बड़े बदलाव के दौर से गुजर रहा है।उन्‍होंने कहा कि सरकार ने कर व्‍यवस्‍था में सुधार किया है, ताकि वह अधिक आसान और पारदर्शी बन सके। उन्होने कहा कि..आज करोबार आसान हुआ है, बैंकिंग सिस्‍टम को भी ताकत मिली है। जी एस टी के तौर पर भारत ने स्‍वतंत्रता के बाद सबसे बड़ा टैक्‍स सुधार किया है..।

उन्होने कहा कि जी एस टी ने देश को सिंगल मार्केट में बदल दिया है और टैक्‍स वेल्‍थ बढ़ाने में भी बहुत बड़ी मदद की है।हमारा इंफ्रास्‍टक्‍चर सेक्‍टर भी रिकॉर्ड गति से आगे बढ़ रहा है। उन्‍होंने यह भी कहा कि देश का राजकोषीय घाटा कम हुआ है।  श्री मोदी ने कहा कि सरकार 400 रेलवे स्‍टेशनों के आधुनिकीकरण और 100 नये हवाई अड्डे तथा हेलीपैड बनाने की दिशा में अग्रसर है।उन्होने कहा कि आयुष्‍मान भारत योजना के कारण चिकित्‍सा के क्षेत्र में निवेश के अवसर काफी बढ़े हैं।

श्री मोदी ने कहा कि खाद्य प्रसंस्‍करण के मामले में देश की स्थिति बहुत अच्‍छी है। उन्‍होंने सबसे कृषि में अधिक निवेश करने की अपील की। उन्होने कहा कि..उत्‍तराखंड का भविष्‍य स्‍वर्णिम है। मैं आप सभी से एग्री कल्‍चर में, एग्री बिजनेस में निवेश और बनाने का विशेष आग्रह करूंगा। एग्री कल्‍चर में होने वाला वेल्‍यूवेडिशन किसानों की आय को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाता है..।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत, अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में विश्‍व में अग्रणी बनने की दिशा में अग्रसर है। उन्‍होंने कहा कि वर्ष 2030 तक हमारी 40 प्रतिशत ऊर्जा गैर-जीवाष्‍मीय ईंधन से प्राप्‍त होगी और वर्ष 2022 तक 175 गीगावॉट हरित ऊर्जा का उत्‍पादन होने लगेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारा मंत्र एक विश्‍व, एक सूर्य और एक ग्रिड का है।

मुख्‍यमंत्री त्रिवेन्‍द्र सिंह रावत ने बताया कि सम्‍मेलन के शुरू होने से पहले ही राज्‍य को 70 हजार करोड़ रुपये से ज्‍यादा के निवेश के प्रस्‍ताव मिल चुके हैं। गृह मंत्री राजनाथ सिंह कल सम्‍मेलन के समापन समारोह को सम्‍बोधित करेंगे।

दो दिन के इस आयोजन में प्रमुख औद्योगिक घराने हिस्‍सा ले रहे हैं,  जिसका उद्देश्‍य राज्‍य में निवेश के अवसरों को तलाशना है। सम्‍मेलन में भारत के अलावा जापान, चेक गणराज्‍य, अर्जेन्‍टीना, मॉरीशस और नेपाल के निवेशकों को भी आमंत्रित किया गया है।