Saturday , November 27 2021
Home / MainSlide / राष्ट्र ने आज हर्षोल्लासपूर्वक मनाया 69वां गणतंत्र दिवस

राष्ट्र ने आज हर्षोल्लासपूर्वक मनाया 69वां गणतंत्र दिवस

नई दिल्ली 26 जनवरी।राष्ट्र ने आज 69वां गणतंत्र दिवस मनाया।आज के ही दिन 26 जनवरी 1950 को ही भारत का संविधान लागू हुआ था।

मुख्य समारोह नई दिल्ली में राजपथ पर आयोजित किया गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और परेड की सलामी ली।गणतंत्र दिवस की परेड में देश की विविधता, विभिन्न क्षेत्रों में आधुनिक भारत की उपलब्धियों और सैन्य क्षमता का प्रदर्शन किया गया।

पहली बार गणतंत्र दिवस परेड में शामिल हुई, सीमा सुरक्षा बल की बहादुर महिलाएं आकर्षण का केन्द्र रही। इन महिलाओं ने मोटरसाइकिल पर सवार होकर एक से एक हैरत अंगेज करतब दिखायें और लोगों ने भी तालियां बजाकर उनका मनोबल बढाया।इसके अलावा यह पहला मौका था जब परेड में एक साथ दस आसियान देशों के नेता शामिल हुए।

परेड की शुरुआत में पहला दस्ता, आसियान और दस आसियान देशों के ध्वज को लेकर आगे बढ़ा। इसके अलावा भारतीय सेना, नौसेना, वायु सेना का दस्ता और अर्द्धसैनिक बलों में बीएसएफ, एसएसबी, आईटीबीपी की टुकड़ियों के अलावा दिल्ली पुलिस भी परेड में शामिल हुई। देश की सैन्य क्षमता भी राजपथ में दिखी जिसमें मुख्य रुप से ब्रह्मोस मिसाइल, भीष्म टैंक, हथियार खोजी रेडार -स्वाति शामिल हुये। परेड में राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार पाने वाले 18 बच्चों ने भी भाग लिया।

परेड में कुल 23 झांकियां शामिल हुई जिसमें 14राज्यों और नौ केन्द्रीय मंत्रालयों की थी।इन झांकियों में सबसे पहली झांकी, आकाशवाणी की थी जो पहली बार इस परेड का हिस्सा बनी। आकाशवाणी की संकेत धुन और संगीत के उपकरण आकाशवाणी की झांकी में प्रदर्शित किए गये।

छत्तीसगढ़ ने अपनी झांकी में विश्व की प्राचीनतम नाट्यशाला सीताबेंगरा की गुफा को दर्शाया, जहां कालिदास ने मेघदूतम की रचना की थी तो वहीं पंजाब की झांकी में संगत और पंगत की भव्यता को दर्शाया गया। महाराष्ट्र ने छत्रपति शिवाजी महाराज के राज्याभिषेक को दर्शाया जबकि मध्यप्रदेश ने विश्व धरोहर – साँची को प्रदर्शित किया। इसके अलावा मंत्रालयों की झांकी में लोगों को ऑपरेशन क्लीन मनी, खेलो इंडिया और आसियान भारत संबंधों की झलक देखने को मिली। परेड के अंत में वायुसेना के विमानों ने अद्भुत करतब दिखाए।

फ्लाई पास्ट में रूद्र हेलीकाप्टर, सुपर हरक्यूलिस विमान शामिल हुए।फ्लाई पास्ट सुखोई लड़ाकू विमान के वर्टिकल चार्ली की पैंतरेबाजी से सम्पन्न हुआ। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और तीनों सेना प्रमुखों ने इंडिया गेट पर अमर जवान ज्योति पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

समारोह के दौरान राष्ट्रपति ने शांतिकाल का सर्वोच्च वीरता पुरस्कार अशोक चक्र वायुसेना के गरूड़ कमांडो कॉर्पोरल ज्योति प्रकाश निराला को मरणोपरांत प्रदान किया। उनकी पत्नी सुष्मानंद और उनकी माता मालती देवी ने ये सम्मान प्राप्त किया। कॉर्पोरल निराला जम्मू-कश्मीर में दो आतंकवादियों को मार गिराने के बाद शहीद हो गए थे।