Sunday , November 28 2021
Home / छत्तीसगढ़ / राष्ट्र निर्माण में समाज की महान विभूतियों का अतुलनीय योगदान – रमन

राष्ट्र निर्माण में समाज की महान विभूतियों का अतुलनीय योगदान – रमन

बेमेतरा 12 नवम्बर।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा कि कुर्मी समाज का गौरवशाली अतीत रहा है।राष्ट्र निर्माण में सम्राट अशोक से लेकर छत्रपति शिवाजी जैसी महान विभूतियों का अतुलनीय योगदान रहा है।वहीं आजादी के बाद अखंड भारत के निर्माण में सरदार वल्लभ भाई पटेल के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता।

डॉ.सिंह आज यहां आयोजित छत्तीसगढ़ प्रदेश कुर्मी समाज के सातवें प्रांतीय अधिवेशन और 16वॉं कुर्मी संझा कार्यक्रम को मुख्य अतिथि की आसंदी से संबोधित कर रहे थे।कार्यक्रम की अध्यक्षता लोकसभा सांसद रमेश बैस ने की।उन्होंने कहा कि कला और संस्कृति के माध्यम से छत्तीसगढ़ की देश में पहचान बनी है।समाज की एकजुटता का नतीजा आज दिखाई दे रहा है।उन्होंने कहा कि समाज के विकास के लिए महिलाओं का शिक्षित होना जरूरी है। शिक्षित और संगठित समाज ही विकास करता है।

उन्होंने समाज के केन्द्रीय अध्यक्ष की मांगों का जिक्र करते हुए जिला मुख्यालय बेमेतरा में कुर्मी समाज भवन निर्माण के लिए 20 लाख रूपए की घोषणा की।इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने कर-कमलों से उत्कृष्ट कार्य करने के लिए समाज की 11 प्रतिभाओं का शॉल, श्रीफल और प्रशस्ति पत्र भेंटकर सम्मानित किया।कार्यक्रम के अध्यक्ष सांसद रमेश बैस ने कहा कि समाज को आगे बढ़ाने के लिए महिलाओं की भागीदारी के साथ ही समाज को व्यवस्थित रखने नियम, कानून भी जरूरी है।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि कुर्मी संझा के आयोजन से समाज संगठित हुआ है और समाज को एक नयी पहचान मिला है। विकास के मायने में कुर्मी समाज सभी समाज को साथ लेकर चल रहा है। उन्होंने अखंड भारत के निर्माण में सरदार वल्लभ भाई पटेल के योगदान तथा व्यक्तित्व और कृतित्व पर विस्तारपूर्वक प्रकाश डाला। कुर्मी समाज के प्रदेश अध्यक्ष विजय बघेल ने स्वागत भाषण दिया।

कार्यक्रम में प्रदेश के संस्कृति, सहकारिता और पर्यटन मंत्री दयालदास बघेल, संसदीय सचिव मोतीराम चंद्रवंशी और लाभचंद बाफना, छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष देवजी भाई पटेल, छत्तीसगढ़ बीज निगम के अध्यक्ष श्याम बैस, विधायक अवधेश सिंह चंदेल,पूर्व विधायक श्री नारायण चंदेल, झारखंड राज्य के सिंचाई मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी भी मौजूद थे।