Wednesday , January 26 2022
Home / MainSlide / मुंगेली ने बनाए विकास के नये-नये कीर्तिमान – रमन

मुंगेली ने बनाए विकास के नये-नये कीर्तिमान – रमन

मुंगेली 31 मई।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि जिला बनने के सिर्फ छह साल के भीतर मुंगेली में विकास के नये-नये कीर्तिमान बनाए हैं।

डा.सिंह ने आज शाम जिला मुख्यालय में विकास यात्रा के रोड-शो के बाद विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि यह नया जिला तरक्की की राह पर इतनी तेजी से आगे बढ़ रहा है। उन्होंने नये जिले की तरक्की और खुशहाली के लिए श्री मोहले की सक्रियता और उनके साथ-साथ जिले के सभी जनप्रतिनिधियों के योगदान की विशेष रूप से प्रशंसा की। डॉ. सिंह ने खाद्य मंत्री श्री मोहले की तारीफ करते हुए कहा कि श्री मोहले राज्य की सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) के पूरे सिस्टम को बेहतर ढंग से संचालित कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर 173 करोड़ रूपए के 442 विभिन्न निर्माण कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया। उन्होंने इसके अलावा 48 हजार किसानों को 67 करोड़ 28 लाख रूपए के धान का बोनस ऑनलाइन उनके बैंक खातों में जमा कर दिया। उन्होंने 14 हजार परिवारों को आबादी पट्टे और एक महिलाओं को प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत रसोई गैस कनेक्शन भी दिए।

डॉ. सिंह ने आम सभा को सम्बोधित करते हुए कहा-राज्य सरकार अनुसूचित जातियों और जनजातियों की जनसंख्या को ध्यान में रखकर उनकी आबादी के अनुपात में अपने बजट का 44 प्रतिशत हिस्सा उनकी सामाजिक-अर्थिक बेहतरी और उनके विकास के कार्यों पर खर्च कर रही है। अनुसूचित जाति बहुल जिलों के लिए पहली बार अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण का गठन किया गया। जनजाति बहुल जिलों के लिए सरगुजा एवं उत्तर क्षेत्र और बस्तर एवं दक्षिण क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण बनाए गए। इन प्राधिकरणों के माध्यम से संबंधित इलाकों में विकास के कार्य तेजी से हो रहे हैं।

उन्होने कहा कि जब विकास की बात होती है, तो विश्वास की बात भी होती है और जब विश्वास की बात होती है तो श्रद्धा की बात होती है। उन्होंने कहा-राज्य सरकार ने गुरू बाबा घासीदास की जन्मस्थली और तपोभूमि गिरौदपुरी में उनके प्रति श्रद्धा प्रकट करते हुए विशाल जैतखाम का निर्माण किया है।बाबा के आशीर्वाद से छत्तीसगढ़ की जनता आज लगातार खुशहाली की ओर बढ़ रही है।मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के विकास में अनुसूचित जाति बहुल समाज का बहुत बड़ा योगदान है।