Tuesday , November 30 2021
Home / MainSlide / भूराजस्व संशोधन बिल वापस लेने से आदिवासियों की चिंता हुई खत्म – नेताम

भूराजस्व संशोधन बिल वापस लेने से आदिवासियों की चिंता हुई खत्म – नेताम

रायपुर 16 जनवरी।भारतीय जनता पार्टी(भाजपा)के अनुसूचित जनजाति मोर्चे के राष्ट्रीय अध्यक्ष राम विचार नेताम ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार के भू-राजस्व संशोधन कानून को वापस लेने से आदिवासी समाज की चिन्ता हमेशा के लिए खत्म हो गई है।

श्री नेताम ने आज यहां प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि समाज के कुछ लोग जिन्हें राजनीति में जनता ने नकार दिया वे अब समाज का चोला ओढ़ समाज को दिग्भ्रमित करने का काम कर रहे हैं।ऐसे लोगों के भ्रम में आदिवासी नहीं आने वाला है इसके लिए हम अपने मोर्चा के माध्यम से सकारात्मक बातों को अपने वर्ग तक पहुंचा रहे हैं।उन्होने कहा कि आदिवासी अंचल बस्तर व सरगुजा में दो बड़े सम्मेलन अनुसूचित जनजाति मोर्चा करेगा जिसमें लगभग एक लाख आदिवासी भाई व बहन शामिल होंगे।

उन्होने कहा कि भू-राजस्व बिल को लेकर विपक्षी दलों के लोग खासकर कांग्रेसी मानसिकता के सेवा निवृत अधिकारियों ने आदिवासी समाज को भड़काने का काम किया जिससे वातावरण दूषित हुआ और सरकार ने इस बिल को वापस लेकर फूट डालो राज करो मानसिकता वाले तथाकथित समाज सेवकों व कांग्रेसियों के मंसूबों पर पानी फेर दिया।

प्रेस कान्फ्रेंस में मोर्चे के प्रदेश अध्यक्ष सिद्धनाथ पैकरा, सांसद विक्रम उसेंडी, पूर्व विधायक देवलाल दुग्गा, भाजपा महामंत्री सुभाऊ कश्यप, पूर्व विधायक मंतूराम पवार, विकास मरकाम उपस्थित थे।