Saturday , May 28 2022
Home / MainSlide / भूपेश की विकास के प्रति कोई सोच नही – रमन

भूपेश की विकास के प्रति कोई सोच नही – रमन

रायपुर 08 जनवरी।भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं छत्तीसगढ़ की पूर्व मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह ने भूपेश सरकार पर करारा हमला बोलते हुए कहा कि मुख्यमंत्री की विकास के बारे में कोई सोच नही है।

डा.सिंह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के राज्य व्यापी दौरे में भाजपा पर किए जा रहे लगातार हमले पर आज यहां जारी बयान में जवाब देते हुए कहा कि दो वर्ष में क्या उन्होने कोई नई सड़क बनाई,क्या कोई बड़ा विकास काम किया।उन्होने कहा कि..मैं उन्हे पुराने आकड़े याद दिला दूं कि जब 2003 में उनकी सरकार बनी तो राज्य में 1200 किमी प्रधानमंत्री सड़क थी जिसे 15 वर्षों में उन्होने 21 हजार किमी तक पहुंचाया..। 2003 में 30 हजार किमी सड़क थी जिसे बढ़ाकर 60 हजार किमी कर दिया..।

उन्होने कहा कि जब उनकी सरकार बनी तो कई राष्ट्रीय राजमार्ग मिट्टी के थे।राज्य की सीमा पर स्थित कोंटा की राष्ट्रीय राजमार्ग सड़क मिट्टी के थे।बस्तर एवं सरगुजा के राष्ट्रीय राजमार्गों पर छह माह तक गाडियों का आवागमन बन्द रहता था।आज इन पर हर मौसम में फर्राटे से गाडियां दौड़ रही है।उनकी सरकार ने 11 प्रोजेक्ट दो हजार किमी सड़कों के मंजूर किए।वह अद्योसंरचना विकास का राज्य में स्वर्णिम युग था।

डा.सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री जिन कार्यों का लोकार्पण कर रहे है,उनकी मंजूरी उनके सरकार के समय मिली थी।इनके कार्यकाल में सिंचाई पम्पों को कनेक्शऩ देने में तीन वर्ष की प्रतीक्षा सूची बन गई है।इनके कार्यकाल में 40 हजार पम्प खुदे है इन्हे तो अगले तीन साल में शायद ही कनेक्शन मिल सके।उन्होने कहा कि ये अद्योसंरचना की कल्पना नही कर सकते।मेडिकल कालेज,स्टेडियम जो उनके कार्यकाल में पूरे नही हुए थे,उनके लिए इस सरकार के पास धन नही है।नई सड़कों का निर्माण तो दूर पुरानी सड़कों के वार्षिक अनुरक्षण के लिए इनकी सरकार मॆं पैसा नही जारी हो रहा है।

धान खरीद को लेकर डा.सिंह ने भूपेश सरकार को घेरते हुए कहा कि वादा 2500 रूपए क्विंटल में खरीद का इन्होने किया,दो साल का बोनस देने का वादा इन्होने किया और अब पुराना पत्र दिखाते हुए कहते है कि रमन फिर पत्र लिखे।वादा आपने किया है और पत्र हमसे लिखने की बात करते है।उन्होने कहा कि 15 वर्ष उनकी सरकार रही पर कभी बोरे की कमी के कारण धान खरीद प्रभावित नही हुई और अब चाहते है कि रमन कोलकाता जाकर बोरा लाए।