Friday , November 26 2021
Home / MainSlide / भारतीय वायुसेना के मार्शल अर्जन सिंह का निधन

भारतीय वायुसेना के मार्शल अर्जन सिंह का निधन

नई दिल्ली 17 सितम्बर।भारतीय वायुसेना के मार्शल अर्जन सिंह का कल यहां निधन हो गया। वे 98 वर्ष के थे। उन्हें दिल का दौरा पड़ने के बाद कल शाम आर्मी रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

मार्शल अर्जन सिंह का जन्म अविभाजित भारत के लायलपुर में हुआ था, जिसे अब फैसलाबाद के रूप में जाना जाता है। वह 1938 में 19 वर्ष की उम्र में वायुसेना में शामिल हुए। फाइवस्टार रैंक तक पहुंचने वाले वो भारतीय वायुसेना के एकमात्र अधिकारी रहे। 1965 के भारत-पाक युद्ध के दौरान भारतीय वायुसेना का साहसिक अभियान अर्जन सिंह की अगुवाई में हुआ था। ये एक बड़ी उपलब्धि है कि मार्शल अर्जन सिंह ने 60 तरह के वायुयान उड़ाए। अर्जन सिंह ने अगस्त 1964 में वायुसेना के तीसरे अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला। 1965 में भारत-पाक युद्ध में उनकी भूमिका के लिए सरकार ने उन्हें पद्मविभूषण से अलंकृत किया गया।

अर्जन सिंह को 1971 में स्विटजरलैंड में भारत के राजदूत और 1974 में कीनिया में उच्चायुक्त बनाया गया। बाद में उन्होंने दिल्ली के उप-राज्यपाल के रूप में एक बेहतरीन प्रशासक होने का परिचय दिया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मार्शल अर्जन सिंह के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मार्शल अर्जन सिंह के सेना में क्षमता निर्माण पर दृढ़ सकंल्प के साथ जोर देने से देश की रक्षा क्षमताओं को मजबूती मिली। पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने ट्वीट में मार्शल अर्जन सिंह को मोर्चे का नेतृत्व करने वाला उत्कृष्ट सैनिक बताया। सूचना और प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने मार्शल अर्जन सिंह के नि‍धन पर शोक व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि देश उनकी सेवाओं के लिए ऋणी है।