Tuesday , July 5 2022
Home / MainSlide / परमाणु पनडुब्बी आई एन एस अरिहंत ने पहला निगरानी अभियान किया पूरा

परमाणु पनडुब्बी आई एन एस अरिहंत ने पहला निगरानी अभियान किया पूरा

नई दिल्ली 05 नवम्बर।परमाणु पनडुब्‍बी आई एन एस अरिहंत ने पहला निगरानी अभियान पूरा कर लिया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अपने सरकारी आवास पर परमाणु पनडुब्बी आईएनएस अरिहंत के चालक दल का स्वागत करते हुए कहा मजबूत भारत, विशेषकर अनिश्चितताओं और चिंताओं से भरे विश्व में शांति तथा स्थिरता स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। उन्होंने कहा कि एक अरब से अधिक भारतीय, मजबूत और नए भारत की आकांक्षा करते हैं, ताकि उनकी आशाएं और अपेक्षाएं पूरी हो सकें।

श्री मोदी ने कहा कि भारत के परमाणु कार्यक्रम को विश्व शांति और स्थिरता को बढ़ाने के, देश के प्रयासों के रूप में देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि शांति भारत की ताकत है, न कि कमजोरी। प्रधानमंत्री ने कहा कि विश्वसनीय परमाणु प्रतिरोधक क्षमता समय की आवश्यकता है और आईएनएस अरिहंत की सफलता, परमाणु धमकी देने वालों को करारा जवाब है।

त्रिआयामी परमाणु प्रक्षेपण क्षमता प्राप्त करने में आईएनएस अरिहंत की सफलता को महत्वपूर्ण बताते हुए प्रधानमंत्री ने चालक दल और उसमें योगदान करने वाले अन्य सभी लोगों को बधाई दी। श्री मोदी ने कहा कि जिम्मेदार राष्ट्र होने के नाते भारत के परमाणु कमान प्राधिकरण के तहत उसके पास व्यापक परमाणु कमान तथा नियंत्रण ढांचा, प्रभावी सुरक्षा गारंटी संरचना और कड़ा राजनीतिक नियंत्रण है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत विश्वसनीय न्यूनतम प्रतिरोधक क्षमता और पहले इस्तेमाल नहीं करने के सिद्धांत के प्रति वचनबद्ध है। उन्होंने कहा कि चार जनवरी 2003 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की सुरक्षा समिति की बैठक में यह फैसला लिया गया था।