Monday , January 17 2022
Home / MainSlide / न्यायमूर्ति रंजन गोगोई बने भारत के प्रधान न्यायाधीश

न्यायमूर्ति रंजन गोगोई बने भारत के प्रधान न्यायाधीश

नई दिल्ली 03अक्टूबर।न्‍यायमूर्ति रंजन गोगोई ने आज भारत के प्रधान न्‍यायाधीश के पद को ग्रहण कर लिया।

राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने न्‍यायमूर्ति रंजन गोगोई को राष्‍ट्रपति भवन में आयोजित  समारोह में शपथ दिलवाई।इस मौके पर उप राष्ट्रपति एम वैंकया नायडू,प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय मंत्रिमंडल के सदस्य एवं अन्य गणमान्य लोग मौजूद थे।

न्‍यायमूर्ति गोगोई, न्‍यायमूर्ति दीपक मिश्रा का स्‍थान लेंगे, जो प्रधान न्‍यायाधीश के पद से कल सेवानिवृत हो गए।न्‍यायमूर्ति रंजन गोगोई का जन्‍म 18 नवम्‍बर, 1954 में हुआ था। 1978 में उन्‍होंने अधिवक्‍ता के रूप में पंजीकरण कराया। न्‍यायमूर्ति गोगोई ने गुवाहाटी उच्‍च न्‍यायालय में संवैधानिक, कराधान और कंपनी संबंधी मामलों में वकालत की। 28 फरवरी, 2001 को उन्‍हें गुवाहाटी उच्च न्‍यायालय में न्यायाधीश नियुक्‍त किया गया। 9 सितम्‍बर, 2010 को उन्‍हें पंजाब और हरियाणा उच्‍च न्‍यायालय स्‍थानांतरित किया गया।

न्‍यायमूर्ति गोगोई को 12 फरवरी, 2011 को पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय का मुख्‍य न्‍यायाधीश नियुक्‍त किया गया। 23 अप्रैल, 2012 को उन्‍हें उच्‍चतम न्‍यायालय का न्‍यायाधीश बनाया गया। न्‍यायमूर्ति गोगोई भारत के 46वें प्रधान न्‍यायाधीश होंगे। वे 17 नवम्‍बर, 2019 तक इस पद पर रहेंगे।