Saturday , January 29 2022
Home / MainSlide / नक्सल हिंसा और आतंक से सरगुजा की तरह जल्द बस्तर को भी मिलेगी मुक्ति- रमन

नक्सल हिंसा और आतंक से सरगुजा की तरह जल्द बस्तर को भी मिलेगी मुक्ति- रमन

बलरामपुर/राजपुर 19मई।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा कि सरगुजा संभाग अब नक्सल हिंसा और आतंक की कालीछाया से मुक्त हो चुका है। बस्तर को भी नक्सलवाद से जल्द मुक्ति मिलेगी।

डा.सिंह ने प्रदेश व्यापी विकास यात्रा के दौरान बलरामपुर-रामानुजगंज जिले में दो विशाल आमसभाओं में राज्य और केन्द्र सरकार की विभिन्न योजनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि इन योजनाओं से गरीबों के जीवन में खुशहाली आ रही है। दोनों आमसभाओं में लोगों ने मुख्यमंत्री का जोरदार स्वागत और आत्मीय अभिनंदन किया।

उन्होने राजपुर की आमसभा में कहाकि सरगुजा संभाग अब नक्सल हिंसा और आतंक की कालीछाया से मुक्त हो चुका है। इस क्षेत्र की जनता के सहयोग और पुलिस बल की सजगता और सक्रियता से ही राज्य सरकार को इसमें सफलता मिली है।उन्होने कहा कि कुछ वर्ष पहले तक यहां के लोग शाम ढलने के बाद आतंक की वजह से घर से बाहर नहीं निकल पाते थे।कई ग्रामीणों ने शहरी क्षेत्रों में शरण ले रखी थी, लेकिन अब हिंसा और दहशत का माहौल खत्म हो गया है। पूरे इलाके में शांतिपूर्ण विकास का नया और उत्साहजनक वातावरण बना है।

डॉ.सिंह ने कहा कि बस्तर संभाग भी तेजी से नक्सल मुक्त हो रहा है। उन्होंने उम्मीद जतायी कि बस्तर संभाग की जनता को भी जल्द से जल्द नक्सल समस्या से मुक्ति मिल जाएगी। डॉ. सिंह ने दोनों आमसभाओं में कहा-राज्य सरकार ने छत्तीसगढ़ के लाखों गरीब परिवारों को भोजन का कानूनी अधिकार दिलाया है। किसानों को खेती के लिए ब्याजमुक्त अल्पकालीन ऋण सुविधा दी जा रही है।

उन्होने जिला मुख्यालय बलरामपुर की आमसभा में कहा कि इस आदिवासी बहुल इलाके को पिछड़ेपन के दर्द से राहत दिलाने के लिए जनता की मांग पर वर्ष 2012 में इस जिले का निर्माण किया गया था। पूरे जिले में विकास की तेज रफ्तार को देखते हुए मुझे विश्वास हो गया है कि जिला निर्माण का उद्देश्य सार्थक हुआ है। प्रधानमंत्री आवास योजना और प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना सहित केन्द्र और राज्य की विभिन्न योजनाओं में बलरामपुर-रामानुजगंज जिले ने श्रेष्ठ प्रदर्शन किया है और इन योजनाओं में जिले की प्रगति निश्चित रूप से सराहनीय है।