Thursday , December 2 2021
Home / MainSlide / नक्सल प्रभावित बस्तर में भी रेलवे पुलिस की तैनाती का प्रस्ताव

नक्सल प्रभावित बस्तर में भी रेलवे पुलिस की तैनाती का प्रस्ताव

रायपुर 23 नवम्बर।छत्तीसगढ़ के पुलिस महानिदेशक ए.एन.उपाध्याय ने बस्तर अंचल में रेल सेवाओं के लिए शासकीय रेलवे पुलिस की तैनाती का प्रस्ताव तैयार करने एवं उसे राज्य शासन के माध्यम से रेल मंत्रालय को भेजने का निर्देश दिया है।

श्री उपाध्याय ने छत्तीसगढ़ रेलवे सुरक्षा समिति की आज हुई बैठक में कहा कि राज्य के नक्सल प्रभावित क्षेत्र बस्तर में रेल सेवाओं का विस्तार तेजी से हो रहा है।रावघाट रेल परियोजना का कार्य प्रगति पर है और नई यात्री रेल सेवायें प्रारंभ हुई हैं, इसलिए बस्तर अंचल में भी शासकीय रेल पुलिस की सेवाओं की जरूरत महसूस की जा रही है।अभी इस इलाके में रेल लाईनों एवं रेलवे स्टेशनों की सुरक्षा का काम अकेले रेलवे सुरक्षा बल(आरपीएफ) ही देखती है।

उन्होंने कहा कि राज्य में रेल यात्रियों तथा रेलवे सम्पत्तियों की सुरक्षा में विशेष सतर्कता बरती जाए। इसके लिए शासकीय रेल पुलिस (जीआरपी), स्थानीय पुलिस तथा रेलवे सुरक्षा बल के बीच परस्पर तालमेल बना रहे और तीनों ही पुलिस के अधिकारी समन्वय के साथ कार्य करें, क्योंकि शासकीय रेल पुलिस तथा रेलवे सुरक्षा बल भले ही राज्य और केन्द्र सरकार के अधीन है, लेकिन दोनों का उद्देश्य एक ही है।

बैठक में पूर्व तटीय रेल्वे भुवनेश्वर की रेलवे सुरक्षा बल की उपमहानिरीक्षक कंचन चरण  ने कहा कि बस्तर क्षेत्र में रेल सेवाओं के संचालन में स्थानीय छत्तीसगढ़ पुलिस का अच्छा सहयोग प्राप्त हो रहा है।उन्होंने सुझाव दिया कि बस्तर क्षेत्र में जब तक जीआरपी के थाने नहीं प्रारंभ हो रहे हैं, तब तक जगदलपुर और किरंदुल रेलवे स्टेशनों पर पुलिस सहायता केन्द्र खोले जाए, इस पर पुलिस महानिदेशक श्री उपाध्याय ने सहमति व्यक्त करते हुए रेलवे अधिकारियों के सहयोग से पुलिस सहायता केन्द्र प्रारंभ करने के लिए जिला पुलिस अधीक्षकों को पत्र लिखने के निर्देश दिए।