Wednesday , January 19 2022
Home / MainSlide / तीन बार प्रधानमंत्री रहे वाजपेयी थे कवि, पत्रकार व एक प्रखर वक्ता

तीन बार प्रधानमंत्री रहे वाजपेयी थे कवि, पत्रकार व एक प्रखर वक्ता

नई दिल्ली 16 अगस्त। तीन बार देश के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी कवि, पत्रकार एवं एक प्रखर वक्ता थे।

श्री वाजपेयी का जन्म मध्य प्रदेश के ग्वालियर में 25 दिसंबर, 1924 को जन्म हुआ था।उन्होने ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज(लक्ष्मीबाई कॉलेज) में तथा कानपुर के डी. ए. वी. कॉलेज में शिक्षा ग्रहण की और राजनीति विज्ञान में एम. ए.की उपाधि प्राप्त की।उन्हे 1993 मे कानपुर विश्वविद्यालय द्वारा दर्शन शास्त्र में पी.एच डी की मानद उपाधि से सम्मानित किए गए।

श्री वाजपेयी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सक्रिय सदस्य और सन् 1951 में गठित राजनैतिक दल ‘भारतीय जनसंघ’ के संस्थापक सदस्य थे।आपातकाल के दौरान वह 1975-77 के दौरान  जेल में रहे। 1977 में बनी मोरारजी देसाई मंत्रिमंडल में 79 तक देश के विदेश मंत्री, सन् 1977 से 80 तक जनता पार्टी के संस्थापक सदस्य, सन् 1980-86 भाजपा अघ्यक्ष, सन् 1980-84 , 1986 तथा 1993-96 के दौरान भाजपा संसदीय दल के नेता रहे।

दूसरी लोकसभा के लिए सन् 1957 में प्रथम बार वह निर्वाचित हुए थे। सन् 1999 में लोक सभा में भाजपा संसदीय दल के नेता और सन् 2004 में भाजपा और एनडीए संसदीय दल के अघ्यक्ष रहे।बहुदलीय लोकतंत्र में वह ऐसे एकमात्र राजनेता रहे जिनका सभी दलों के लोग सम्मान करते रहे। वह देश के पहले गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री थे जिन्होने पांच वर्ष तक सरकार चलाई।

श्री वाजपेयी पहली बार 16 मई से एक जून 1996 तक दूसरी बार 1998 में लगभग 13 महीने तथा तीसरी बार 22 मई 2004 तक वह प्रधानमंत्री रहे।स्वास्थ्यगत कारणों से वह पिछले कई वर्षों से सक्रिय राजनीति से दूर थे।