Sunday , November 28 2021
Home / MainSlide / छत्तीसगढ़ में नदियों के किनारे लगाए जाएंगे दस करोड़ पौधे-रमन

छत्तीसगढ़ में नदियों के किनारे लगाए जाएंगे दस करोड़ पौधे-रमन

रायपुर 28 नवम्बर।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा है कि राज्य में नदियों के दोनों किनारों पर एक किलोमीटर के दायरे में सघन वृक्षारोपण किया जाएगा।इसके लिए 10 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

डॉ.सिंह ने आज यहां छत्तीसगढ़ में नदियों और जल स्त्रोतों के संवर्धन और संरक्षण के लिए राज्य सरकार के जल संसाधन विभाग और ईशा फाउंडेशन के बीच परस्पर सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर के लिए आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे।ईशा फाउंडेशन के संस्थापक सद्गुरू श्री जग्गी वासुदेव भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

इस समझौते के अनुसार नदियों और जल स्त्रोतों के किनारे वृहद पैमाने पर वृक्षारोपण किया जाएगा और कृषि वानिकी तथा उद्यानिकी की गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाएगा। जिससे नदियांे और जल स्त्रोतों में साल भर पानी उपलब्ध रहे। ईशा फाउंडेशन द्वारा इस कार्य में तकनीकी मार्गदर्शन दिया जाएगा। एमओयू पर राज्य शासन की ओर से जलसंसाधन विभाग के सचिव श्री सोनमणि बोरा और ईशा फाउंडेशन की ओर से उनकी प्रतिनिधि सुश्री मोमिता सेन सर्मा ने हस्ताक्षर किए।

मुख्यमंत्री डॉ.सिंह ने सद्गुरु श्री जग्गी वासुदेव का छत्तीसगढ़ में स्वागत करते हुए कहा कि आध्यात्मिक गुरु श्री वासुदेव देश और दुनिया में नदियों और प्रकृति को बचाने के लिए महाअभियान चला रहे हैं। छत्तीसगढ़ को इस अभियान से जुड़ने का मौका मिला। नदियों को बचाने के महाभियान में छत्तीसगढ़ की भी सक्रिय भागीदारी होगी। उन्होंने कहा कि आज प्रकृति का संतुलन बनाये रखना बहुत आवश्यक है।छत्तीसगढ़ में दस करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

सद्गुरु श्री जग्गी वासुदेव ने इस अवसर पर कहा कि नदियों और जल स्त्रोतों के संरक्षण और संवर्धन के कार्य में छत्तीसगढ़ देश के लिए मॉडल राज्य बन सकता है। नदियों को बचाने के लिए उनके किनारों पर एक किलोमीटर में सद्यन वृक्षारोपण करना होगा। उन्होंने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि भारत में सर्वाधिक जैव विविधता है, जिसे हमें बचाना होगा। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि आने वाली पीढ़ियों को बारहमासी नदियों और हरा-भरा पर्यावरण उपलब्ध हो।

कृषि एवं जलसंसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, वनमंत्री महेश गागड़ा, मुख्य सचिव विवेक ढांड, अपर मुख्य सचिव कृषि अजय सिंह, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव सुबोध कुमार सिंह सहित संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।