Wednesday , January 19 2022
Home / MainSlide / छत्तीसगढ़ में 500 मिलियन टन चूना पत्थर और 20 लाख टन बॉक्साइट के नये भण्डार प्रमाणित

छत्तीसगढ़ में 500 मिलियन टन चूना पत्थर और 20 लाख टन बॉक्साइट के नये भण्डार प्रमाणित

रायपुर 26 जुलाई।छत्तीसगढ़ में पिछले वित्तीय वर्ष 2017-18 में 500 मिलियन टन चूना पत्थर और बीस लाख टन बॉक्साइट के नये भण्डार प्रमाणित किए गए हैं।

भू-वैज्ञानिक कार्यक्रम मंडल की राज्य स्तरीय 18वीं बैठक आज यहां आयोजित 18वीं बैठक में भौमिकी एवं खनिकर्म संचालनालय के अधिकारियों ने यह जानकारी दी।बैठक में खनिजों की खोज और उनके उत्खनन कार्य से जुड़े केन्द्र और राज्य सरकारों के विभिन्न संगठनों और उपक्रमों के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। उनके द्वारा छत्तीसगढ़ में किए जा रहे खनिज अन्वेषण कार्यों का प्रस्तुतिकरण दिया गया।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए राज्य सरकार के खनिज साधन विभाग के सचिव सुबोध कुमार सिंह ने कहा कि खनिजों के पूर्वेक्षण और अतिरिक्त खनिज भण्डारों के प्रमाणिकरण के कार्यों में संलग्न भौमिकी संस्थानों के संयुक्त प्रयासों से छत्तीसगढ़ में खनिज आधारित नये उद्योगों की स्थापना की जा सकती है। उन्होंने इसके लिए राज्य और केन्द्र सरकार की सभी संबंधित एजेंसियों के बीच और भी अधिक समन्वय की जरूरत पर बल दिया। श्री सिंह ने कहा कि राज्य और देश के विकास में खनिज संसाधनों का योगदान काफी महत्वपूर्ण होता है।

बैठक में संचालक भौमिकी एवं खनिकर्म संचालनालय श्रीमती अलरमेल मंगई डी. ने बताया कि छत्तसगढ़ में पिछले वित्तीय वर्ष 2017-18 में लगभग 24 हजार 693 करोड़ रूपए के खनिजों का उत्पादन किया गया।इससे राज्य सरकार के खनिज साधन विभाग को चार हजार 911 करोड़ रूपए का राजस्व मिला और विभाग ने इसके माध्यम से प्रदेश की अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।उन्होंने बताया कि राज्य निर्माण के लगभग 18 वर्षों में छत्तीसगढ़ के खनिज राजस्व में लगभग 11 गुना वृद्धि हुई है। खनिज साधन विभाग द्वारा गौण खनिजों से प्राप्त राजस्व तीन स्तरों वाली पंचायतों और नगरीय निकायों को दिया जा रहा है, ताकि इसका उपयोग उन क्षेत्रों के सामाजिक, आर्थिक और अधोसंरचना विकास में किया जा सके।