Tuesday , July 5 2022
Home / छत्तीसगढ़ / छत्तीसगढ़ में होमगार्डों के मासिक भत्ते में तीन हजार की वृद्धि समेत कई घोषणाएं

छत्तीसगढ़ में होमगार्डों के मासिक भत्ते में तीन हजार की वृद्धि समेत कई घोषणाएं

रायपुर 21 अक्टूबर।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह ने नगर सैनिकों (होमगार्डों ) के वर्तमान मासिक मानदेय को दस हजार रूपए से बढाकर 13 हजार दो सौ रूपए करने,नक्सल प्रभावित इलाकों में कार्यरत सहायक आरक्षकों को नियमित पुलिस आरक्षक भर्ती में 15 प्रतिशत आरक्षण दिये जाने समेत कई घोषणाएं की है।

डा.सिंह ने आज राजधानी में आयोजित राष्ट्रीय पुलिस स्मृति दिवस कार्यक्रम में राज्य पुलिस के जवानों के लिए ये महत्वपूर्ण घोषणाएं करते हुए आगे कहा कि वर्तमान सहायक आरक्षकों में से 20 प्रतिशत को वरिष्ठ अथवा उच्चतर वेतन मान भी दिया जाएगा इससे उन्हें हर महीने 2500 रूपए  ज्यादा मिलेंगे।मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस आरक्षकों (कांस्टेबलों ) की भर्ती में बस्तर अंचल के युवाओं शारीरिक  मापदंड विशेष छूट दी जाएगी,जिसका लाभ वर्तमान सहायक आरक्षकों को भी मिलेगा।

उन्होंने यह भी कहा कि छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल की सभी बटालियनों  में सेवाएं दे रहे छत्तीसगढ़ के पुलिस कर्मियों के परिवारों को जिन्हें वर्तमान में सरकारी मकानों की सुविधा नहीं मिल रही है, उन्हें गृहभाड़ा भत्ता दिया जाएगा।चाहे वे राज्य के भीतर सेवा दे रहे हों या भारत के किसी भी राज्य में।डॉ.सिंह ने इस अवसर पर माना में आयोजित कार्यक्रम में परेड की सलामी ली। उन्होंने कर्तव्य निर्वहन के दौरान शहीद हुए पुलिस जवानों के बलिदानों को याद किया और  पुष्प-चक्र अर्पित कर विनम्र श्रद्धांजलि दी।

डा.सिंह ने कहा कि राज्य और देश में शान्ति और क़ानून -व्यवस्था बनाए रखने की बड़ी जिम्मेदारी पुलिस बल पर है,वे पूरी ईमानदारी और पूरी निष्ठा और मुस्तैदी से अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे हैं।.डॉ.सिंह ने  इसमें समाज के सहयोग की जरूरत पर भी बल दिया।उन्होने कहा कि राज्य सरकार  छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल की चार बटालियनों में पांच हजार 800 जवानों की भर्ती  कर रही है अब तक 2800 भर्तियाँ हो चुकी हैं .इन बटालियनों के बारह सौ जवानों को प्रमोशन भी दिया जा रहा है .बस्तर के विकास के लिए भारत सरकार से सात सौ करोड़ रूपए का विशेष पैकेज जल्द मिलने वाला है।मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि बस्तर संभाग में 50 नये थाना भवन जल्द बनवाए जाएंगे।उन्होंने बस्तर को वर्ष 2020 तक नक्सल मुक्त करने का संकल्प भी दोहराया।