Friday , January 28 2022
Home / MainSlide / छत्तीसगढ़ में वाणिज्य और उद्योग के क्षेत्र में सकारात्मक वातावरण-रमन

छत्तीसगढ़ में वाणिज्य और उद्योग के क्षेत्र में सकारात्मक वातावरण-रमन

रायपुर 23 अगस्त।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि राज्य सरकार की उद्योग हितैषी नीति से प्रदेश में वाणिज्य और उद्योग के क्षेत्र में सकारात्मक वातावरण बना है।

डा.सिंह ने आज यहां एक निजी होटल में दलित इंडियन चैम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्रीज छत्तीसगढ़ चेप्टर की द्वितीय वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित सम्मेलन ‘को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य में युवाओं के लिए उद्योग और व्यापार के क्षेत्र में अवसरों के नये दरवाजे खुल रहे हैं।उन्होने कहा कि राज्य सरकार अपनी औद्योगिक नीति-2014-19 के तहत उद्यमियों को अनेक रियायतें दे रही है। नये उद्योगों की स्थापना से युवाओं को रोजगार के नये अवसर मिल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि बैंगलुरू और चेन्नई जैसे अत्याधुनिक बीपीओ प्रदेश के दूरस्थ अंचल के दंतेवाड़ा और बीजापुर में प्रारंभ किए गए हैं। डॉ. सिंह ने डीआईसीसीआई के आग्रह पर उद्यमियों को उद्योगों के लिए भूमि आबंटन के बाद उत्पादन इकाई की स्थापना के लिए नियत 2 साल की अवधि बढ़ाकर चार वर्ष करने और जिला उद्योग केन्द्रों में अनुसूचित वर्ग के एक-एक उद्यमी को नामांकित करने के लिए उचित पहल का आश्वासन दिया।

डॉ. सिंह ने प्रसन्नता जताई कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जाति वर्ग के युवा प्रदेश में उद्योग और  व्यापार के क्षेत्र में आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने इन वर्गो के उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए डीआईसीसीआई  द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि डीआईसीसीआई ने अपनी स्थापना के 15 वर्षो में देश के सभी राज्यों और लगभग 300 जिलों में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में सफलता पायी है। इस संस्था द्वारा केन्द्र और राज्य सरकार के साथ मिलकर नीतियों के निर्धारण और युवा उद्यमियों को मार्गदर्शन और सहायता देने में प्रशंसनीय काम किया जा रहा है।

डॉ. सिंह ने युवाओं को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि आत्मविश्वास, लगन और दृढ़ इच्छा शक्ति से युवा हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकते हैं। डीआईसीसीआई के संस्थापक अध्यक्ष पद्मश्री सम्मानित श्री मिलिन्द काम्बले, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष पद्मश्री सम्मानित श्री रवि कुमार नारा, डीआईसीसीआई के पश्चिम भारत के अध्यक्ष श्री निश्चय शेल्के और छत्तीसगढ़ चेप्टर के अध्यक्ष श्री मनीष बौद्ध ने भी इस अवसर पर अपने विचार प्रकट किए।