Thursday , December 2 2021
Home / MainSlide / छत्तीसगढ़ की पहचान अनुशासन और कर्तव्यनिष्ठा-रमन

छत्तीसगढ़ की पहचान अनुशासन और कर्तव्यनिष्ठा-रमन

रायपुर 14 दिसम्बर।मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ की पहचान ही अनुशासन और कर्तव्यनिष्ठा है जो कि देश की सेना में भी परिलक्षित होगी।

डा.सिंह आज शाम यहां शासकीय विज्ञान महाविद्यालय परिसर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय सभागृह में भारतीय सेना में छत्तीसगढ़ से चयनित युवाओं के लिए आयोजित आशीर्वाद समारोह को सम्बोधित करते हुए यह विचार व्यक्त किया।उन्होंने चयनित युवाओं को सेना का नियुक्ति प्रमाण पत्र प्रदान कर सम्मानित किया और शुभकामनाएं दी।

इस कार्यक्रम का आयोजन राज्य सरकार के खेल और युवा कल्याण विभाग ने किया। प्रदेश के विभिन्न जिलों से करीब 500 युवाओं का चयन भारतीय सेना में हुआ है, जो प्रशिक्षण केन्द्रों में प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए रवाना होंगे।

डा.सिंह ने कहा कि भारतीय सेना के लिए छत्तीसगढ़ से चयनित सैनिकों का स्वागत करता हूं। यह हमारे लिए बड़ी उपलब्धि है, जब छत्तीसगढ़ से इतनी संख्या में युवाओं का सेना में चयन हुआ है। यह प्रदेश में सेना के प्रति बढ़ती जागरूकता का परिचायक है। निश्चित ही आने वाले समय में यहां 600 का कोटा तो पूरा होगा, यह स्थिति भी आएगी कि कोटा बढ़कर 1000 होगा और उसे भी प्राप्त करेंगे।

उन्होंने कहा कि सेना में भर्ती के लिए सिर्फ आजीविका के लिए ही नहीं होती, बल्कि पराक्रम शौर्य के साथ इस देश की मिट्टी के प्रति लगाव भी होता है ताकि कोई भी इस देश की तरफ आंख उठाकर न देख सके। उन्होंने कहा कि यह महान स्वतंत्रता सेनानी स्व.वीरनारायण सिंह की भूमि है जो युवाओं देश सेवा की प्रेरणा देती है।छत्तीसगढ़ की पहचान ही अनुशासन और कर्तव्यनिष्ठा है जो कि देश की सेना में भी परिलक्षित होगी। सेना में चयनित ये युवा छत्तीसगढ़ का नाम रोशन करेंगे।