Thursday , January 27 2022
Home / MainSlide / कानूनी अधिकारों की जागरूकता से बच्चें भविष्य में बनेंगे सशक्त नागरिक-रमन

कानूनी अधिकारों की जागरूकता से बच्चें भविष्य में बनेंगे सशक्त नागरिक-रमन

जगदलपुर 25 फऱवरी।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि छोटी उम्र से ही बच्चों को कानूनी अधिकारों और कर्त्तव्यों के प्रति जागरुकता लाने पर वे भविष्य में अधिक सशक्त नागरिक के रुप में अपनी भूमिका निभाएंगे और देश और समाज की उन्नति में योगदान देंगे।

डा.सिंह ने आज बस्तर के घाटलोहंगा के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में गठित विधिक साक्षरता क्लब का शुभारंभ करते हुए इस पहल को बच्चों को नई दिशा में ले जाने का प्रयास बताया। उन्होने कहा कि जो बाते बचपन में सिखाई जाती हैं, वे जीवन भर न केवल याद रहती हैं, बल्कि वह संस्कार बनकर जीवनचर्या का हिस्सा बन जाती हैं।उन्होने कहा कि संविधान ने हमें कई मूलभूत अधिकार दिए हैं, जिनमें शिक्षा का अधिकार, सूचना का अधिकार कौशल का अधिकार आदि शामिल है। उन्होंने कहा कि अधिकारों का लाभ लेने के लिए जागरुकता जरुरी है तथा विधिक अधिकारों की जानकारी जीवन की अमूल्य पूंजी साबित होगी।

उन्होने  कहा कि समाज में व्याप्त कुप्रथाओं को रोकने के लिए कानून बनाए गए हैं तथा इन कानूनों का पालन भी समाज की जागरुकता से होगा। उन्होंने बाल विवाह की कुप्रथा को रोकने के लिए वहां उपस्थित बालिकाओं से समर्थन मांगा, जिस पर बालिकाओं ने हाथों को ऊपर उठाकर समर्थन दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाल विवाह की कुप्रथा को रोकने के लिए बालिकाओं को आगे आना होगा तथा स्वयं के या अन्य बालिका के बाल विवाह की जानकारी मिलने पर उसे रोकने के लिए कदम उठाना होगा। उन्होंने भ्रुण हत्या को रोकने के लिए बनाए गए कानून का जिक्र भी किया और प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ और बस्तर में बेहतर लिंगानुपात है तथा यहां बेटियों की पूजा शक्ति के रुप में की जाती है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश एवं छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के मुख्य संरक्षक न्यायमूर्ति टी.बी. राधाकृष्णन ने कहा कि राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण की मंशा स्कूली बच्चों के माध्यम से लोगों के विधिक ज्ञान के स्तर को बढ़ाना है, ताकि लोग कानूनी रुप से सशक्त हों और कानून को आसानी से समझ सकें। न्यायमूर्ति ने कहा कि संवैधानिक जिम्मेदारियों के प्रति स्कूली जीवन से ही बच्चे सचेत और विधिक ज्ञान से भरपूर होंगे तो, वे भविष्य में बेहतर नागरिक बनेंगे।

उन्होंने कहा कि शिक्षक बच्चों को बहुत आसान भाषा में कानून समझाएं, इसके लिए ऐसी किताबें उपलब्ध कराई गई हैं, जिनके माध्यम से विधिक अधिकारों एवं दायित्वों को आसानी से समझा जा सकता है।