Sunday , December 5 2021
Home / बाजार / कर्ज के दबाव से जूझ रही कम्पनियों को जेटली ने दिलाया भरोसा

कर्ज के दबाव से जूझ रही कम्पनियों को जेटली ने दिलाया भरोसा

मुबंई 19 अगस्त।वित्‍तमंत्री अरुण जेटली ने कर्ज के दबाव से जूझ रही कम्‍पनियों को भरोसा दिलाया है कि बैंकों के फंसे हुए ऋण की समस्‍या के समाधान का उददेश्‍य उनके कारोबार को समाप्‍त करना नहीं हैं, बल्कि उसे बचाना है।

श्री जेटली ने आज यहां भारतीय उद्योग परिसंघ सम्‍मेलन को सम्‍बोधित करते हुए कहा कि नये दिवालिया कानून में समय पर ऋण नहीं लौटाने वाले कर्जदारों और कर्ज देने वालों के संबंधों में महत्‍वपूर्ण बदलाव किये गये हैं।नये दिवालिया कानून की आवश्‍यकता को स्‍पष्‍ट करते हुए वित्‍तमंत्री ने कहा कि यह कानून लाना इसलिए जरूरी हो गया था कि उनकी ऋण वसूली करने वाले न्‍यायाधिकरण शुरूआती सफलता के बाद अपना काम ठीक से नहीं कर पा रहे थे।

फंसे हुए ऋणों की समस्‍या को एक निश्चित समय सीमा में तेजी से सुलझाने पर जोर देते हुए वित्‍तमंत्री ने आशा व्‍यक्‍त की कि कानून के प्रभावी अमल के लिए निर्धारित समय सीमा का पालन किया जाएगा।

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने इस अवसर पर सरकारी बैंकों में और पूंजी निवेश की आवश्‍यकता पर जोर दिया ताकि फंसे हुए ऋणों की समस्‍या को निश्चित समय सीमा में निपटाया जा सकेगा।उन्होने बैंकों के डूबे हुए कर्ज से समयबद्ध तरीके से निपटने के लिए बैंकों को पूंजी उपलब्ध कराने को कहा।उन्होने कहा कि सार्वजनिक बैंकों को समयबद्ध तरीके से आवश्यक पूंजी जुटाने के लिए उपाय तैयार करने के वास्ते सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक बातचीत कर रहे हैं।