Thursday , December 9 2021
Home / MainSlide / एनआईटी के छात्रों ने अपनी प्रतिभा से छत्तीसगढ़ को किया गौरवान्वित-रमन

एनआईटी के छात्रों ने अपनी प्रतिभा से छत्तीसगढ़ को किया गौरवान्वित-रमन

रायपुर 24 दिसम्बर।छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि रायपुर एनआईटी के छात्रों ने अपने ज्ञान, प्रतिभा और छत्तीसगढ़ की माटी से मिले संस्कारों से दुनिया में छत्तीसगढ़ और इस संस्थान का नाम रौशन किया है।

डा.सिंह आज यहां भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान और शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज के भूतपूर्व छात्रों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।एनआईटी परिसर में आयोजित ग्लोबल एल्युमिनाई मीट-2017 का आयोजन एल्युमिनाई एसोसिएशन द्वारा किया गया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर प्रकाशित स्मारिका का विमोचन किया।विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की।

डा.सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ तेजी से बदल रहा है। बाहर से आने वाले छात्रों ने राजधानी रायपुर को देखकर इस बदलाव को महसूस किया होगा। उन्होंने कहा कि भिलाई और रायगढ़ जैसे शहरों के साथ-साथ बस्तर संभाग के दूरस्थ अंचलों के बीजापुर, दंतेवाड़ा, सुकमा जिलों में भी जाकर वहां विकास कार्यांे को देखा जा सकता है। दंतेवाड़ा में एजुकेशन हब एशिया के बेहतर शिक्षण संस्थानों में एक है। लगभग 16 हजार करोड़ रूपए की लागत से नगरनार में इस्पात संयंत्र बनकर तैयार हो रहा है। जल्द ही बस्तर और सरगुजा सहित छत्तीसगढ़ के सात शहर एयर कनेक्टिविटी से जुड़ जाएंगे। जगदलपुर रेल लाइन से जुड़ रहा है। मुख्यमंत्री ने नया रायपुर, जंगल सफारी, बाटनिकल गार्डन के भ्रमण का आमंत्रण सम्मेलन में शामिल छात्रों को दिया।

उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग संस्था क्रिसिल और भारतीय रिजर्व बैंक की रिपोर्टों का उल्लेख करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ आज वित्तीय प्रबंधन, सुशासन, मेन्युफेक्चरिंग, सेवा क्षेत्र और सामाजिक क्षेत्र में सर्वाधिक निवेश करने वाले देश के सर्वश्रेष्ठ राज्यों में पहले और दूसरे नंबर पर है। विधानसभा अध्यक्ष श्री अग्रवाल ने कहा छत्तीसगढ़ को विकास की ऊंचाईयों पर ले जाने के लिए आपका छत्तीसगढ़ में स्वागत है। आपके अनुभवों का लाभ छत्तीसगढ़ को भी मिलना चाहिए। इस संस्थान के छात्रों ने अपनी प्रतिभा से छत्तीसगढ़ का गौरव बढ़ाया है। लोकसभा सांसद श्री अभिषेक सिंह ने कहा कि देश और दुनिया के श्रेष्ठ संस्थानों में इस संस्थान के छात्र अपनी प्रतिभा से अपना प्रतिष्ठित स्थान बनाने में सफल हुए हैं। उन्होंने हाल ही में अपने भाभा एटामिक रिसर्च सेंटर के प्रवास का उल्लेख करते हुए कहा कि इस संस्थान में रायपुर एनआईटी से पास हुए  25 वैज्ञानिक कार्य कर रहे हैं।