Monday , December 6 2021
Home / MainSlide / उत्तरप्रदेश में उद्यमियों के लिए रेडटैप नहीं रेडकारपेट- मोदी

उत्तरप्रदेश में उद्यमियों के लिए रेडटैप नहीं रेडकारपेट- मोदी

लखनऊ 21 फरवरी।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि उत्तरप्रदेश में देश का विकास इंजन बनने की क्षमता हैं और अब यहां उद्यमियों के लिए रेडटैप नहीं रेडकारपेट होगा।

श्री मोदी ने आज यहां निेवेशकों के सम्मेलन का उदघाटन करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में अब वो बुनियाद तैयार हो चुकी है, जिस पर न्यू उत्तर प्रदेश की भव्य और दिव्य इमारत का निर्माण होगा।उन्होने कहा कि कारोबारियों को इस राज्य में लाल फीताशाही का सामना नहीं करना पड़ता, बल्कि उनका स्वागत किया जाता है।

उन्होने कहा कि..आज इंडस्ट्री के लिए जिन डिजिटल क्लेरन सिस्टम को लॉन्च किया गया है। वह भी इसी का उदाहरण है। यह एक सिंगल विंडो पोर्टल होगा, जिसके माध्यम से उद्यमियों को एक तय सीमा में ऑनलाइन परमिशन मिल जाया करेगी..।उन्होने कहा कि केन्द्र की कौशल भारत, स्टार्टअप इंडिया जैसी पहलों से उत्तर प्रदेश सरकार की एक जिला एक उत्पाद योजना को मजबूती मिलेगी।

उन्होंने कहा कि कृषि के बाद सूक्ष्म, लघु और मझौले उद्यम क्षेत्र में रोजगार के श्रेष्ठ अवसर हैं। श्री मोदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कृषि सह-उत्पादों और कृषि अपशिष्टों से राजस्व पैदा करने की क्षमता है।उन्होने कहा कि..यूपी में बायोफियल के क्षेत्र में जितना विकास होगा उसका प्रभाव दिल्ली एन सी आर तक में दिखाई देगा।पर्यावरण के साथ-साथ क्लीन एनर्जी की तरफ भी बड़ा कदम होगा। मुझे तो खुशी है कि राज्य में एक नई बायोफियल पॉलिसी तैयार की गई है।इस पॉलिसी से क्रापबर्निंग जैसी समस्याओं का भी समाधान करने में मदद मिलेगी..।

श्री मोदी ने बताया कि राज्य में बुनियादी ढांचे और पर्यटन क्षेत्र को मजबूत बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि रक्षा औद्योगिक गलियारे का विस्तार आगरा-लखनऊ, कानपुर, झांसी, अलीगढ़ और चित्रकूट तक किया जाएगा, ताकि बुन्देलखंड का विकास सुनिश्चित हो सके।श्री मोदी ने निवेशकों के सम्मेलन और इसमें उद्योगपतियों की उपस्थिति को बड़े बदलाव का संकेत बताया। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि देश में प्रतिस्पर्धी संघवाद होना चाहिए।

उन्होने कहा कि..उत्तर प्रदेश की सरकार देश के और दूसरे राज्यों के साथ अलग-अलग स्तर पर स्पर्धा करें, कंपटिशन करे और यह कंपटिशन जितना ज्यादा होगा उतना ही राज्य में निवेश भी बढ़ेगा। राज्य का विकास हो, राज्य में रोजगार के नये अवसर बनेंगे। राज्य में इस तरह की हेलदी रेस कंपटेटीव कोअपरेटिव फेडरिलिज्म की भावना को भी और मजबूत करेंगे..।

इस अवसर पर राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सरकार कारोबार के माहौल को सुधारने के लिए ठोस प्रयास कर रही है।उन्होने कहा कि..व्यापार और उद्योग को सुगम बनाने और विभिन्न स्वीकृतियां आगे से संबंधित प्रक्रियाओं को अधिकाधिक आसान बनाने के लिए इज ऑफ डूइंग बिजनेस के अंतर्गत बिजनेस रिर्फोम एक्शन ट्वेंटी विभागों द्वारा लागू कर कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई है..। औद्योगिक इकाईयों से संबंधित स्वीकृतियां, अनुमोदनों, अनुमतियों, लाइसेंस की ऑनलाइन सुविधा, डिजिटल क्लीयरेंस की प्रणाली हमलोग लागू करने जा रहे हैं।

निवेशकों के इस जमावड़े में पांच हजार से अधिक लोग हिस्सा ले रहे हैं।जिनमें चोटी के उद्योग जगत को लोग, मंत्री, नीति निधारक और अपने-अपने क्षेत्रों के विशेषज्ञ शामिल हैं। दो दिनों की समिट में कुल 30 सेशन होगी। कई केन्द्रीय मंत्री भी समिट में हिस्सा ले रहे हैं, जिसमें केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, सुरेश प्रभु, शिव प्रताप शुक्ल, मनोज सिन्हा भी शामिल हैं।कई देशों के व्यापारिक नेता भी सरकार के इस आयोजन का हिस्सा बने हैं। जिनमें मॉरिशस, जापान, नीदरलैंड, इंग्लैंड,  चैकरिपब्लिक, थाईलैंड शामिल हैं।